दाण्डी मार्चः रोजगार सहायकों को कांग्रेस का समर्थन

Screenshot_2016-02-18-20-27-02-1बिलासपुर—वेतनमान और नियमितिकरण की मांग को लेकर रोजगार सहायकों  ने आज नेहरू चौक में धरना प्रदर्शन किया। धरना प्रदर्शन के रोजगार सहायक अपनी दो मांगों को लेकर गांधी जी की दांडी मार्च की तर्ज पर पदयात्रा पर रायपुर रवाना हुए। रोजगार सहायकों के दांडी मार्च को जिला कांग्रेस ग्रामीण अध्यक्ष राजेन्द्र शुक्ला ने हरीझण्डी दिखाया।

                         छत्तीसगढ़ ग्राम रोजगार सहायक संघ अपनी दो मांगों को लेकर आज नेहरू चौक पर सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया।  वेतन विसंगती  दूर करने और नियमितिकरण की मांग को लेकर आज रोजगार सहायक संघ ने नेहरू चौक से रायपुर तक पदयात्रा का बिगुल फूंका। रोजगार सहायकों ने पदयात्रा का नाम दाण्डी यात्रा दिया है।

                  रोजगार सहायकों की रायपुर दाण्डी यात्रा को जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष राजेन्द्र शुक्ला ने झंड़ी दिखाकर रवाना किया। इस अवसर पर शुक्ला ने कहा कि 2005 में केन्द्र की यू.पी.ए. सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में 100 दिन का रोजगार उसी स्थान पर देने के लिए मनरेंगा योजना लागू किया था।  जिससे ग्रामीणों को रोजगार मिले और पलायन की प्रवृत्ति से  रोका जाए। काम के लिए पंचायत स्तर पर रोजगार सहायकों की भी नियुक्ति की गई।

               शुक्ला ने कहा कि 10 साल के बाद भी राज्य सरकार ने न तो वेतन बढ़ाया और रोजगार सहायकों को ना ही कोई सुविधा मुहैया दी है। इन 10 सालों में मंहगाई इतनी बढ़ गई है कि रोजगार सहायकों को परिवार चलाने और सामाजिक जिम्मेदारी के निर्वाहन में भारी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। शुक्ला ने कहा कि रोजगार सहायकों की मांग जायज है। छत्तीसगढ़ सरकार को सहानुभूति पूर्वक विचार कर वेतन विसंगति और नियमितिकरण की मांग को स्वीकार करना चाहिए। शुक्ला ने कहा कि छत्तीसगढ़ ग्राम रोजगार सहायक संघ की मांग का कांग्रेस कमेटी समर्थन करती है। उनके साथ हर कदम पर खड़ी है।

                          रोजगार सहायक संघ के जिला अध्यक्ष अशोक राव मराठा ने बताया कि वेतनमान और नियमितिकरण की मांग को लेकर 1 फरवरी को राज्य शासन को पत्र सौंपा था। शासन ने उनकी मांगों को अनसुना कर दिया। निराश होकर हमें अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाना पड़ रहा है।मराठा ने बताया कि शासन से वेतनमान और नियमितिकरण की मांग करते हुए डांडी मार्च का आयोजन रायपुर धरना स्थल तक किया जाएगा। उन्होने कहा कि राज्य सरकार को कई अवार्ड मिले है जिसमें रोजगार सहायकों का योगदान सबसे अधिक है।

          अशोक मराठा ने बताया कि जिले में 450 रोजगार सहायक है। शासन की योजनाओं को लोगों तक पहुंचाते हैं। मनरेगा ,आधार कार्ड, राशन कार्ड सत्यापन बीएलओ का कार्य करते हैं। हड़ताल पर जाने से काम प्रभावित होंगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *