पूर्व CM का क्षेत्र विकास से वंचित..CGWALL से बोले राजस्व मंत्री-धर्मजीत को नहीं होनी चाहिए तकलीफ,यदि है तो बताएं मरवाही विकास में पिछड़ा क्यों

बिलासपुर— जनता कांग्रेस नेता धरमजीत सिंह को तकलीफ नहीं होनी चाहिए। तकलीफ अमित जोगी को भी नहीं होना चाहिए। समझने वाली बात है कि पूर्व मुख्यमंत्री का क्षेत्र मरवाही पिछले 15 सालों में विकास में बहुत पीछे छूट गया है। अरे भाई अभी नोटिफिकेशन हुआ नहीं है। और सरकार क्षेत्र में लगातार लोगों की समस्याओं को घर पहुंचकर दूर कर रही है। यह बातें राजस्व मंत्री जय सिंह अग्रवाल ने बिलासपुर अल्प प्रवास के दौरान कही। उन्होंने कहा नया जिला होने के कारण सरकार के मंत्री लगातार जीपीएम का कर रहे हैं। ठाकुर धरमजीत सिंह को इस बात को सकारात्मक रूप से लेना चाहिए। उन्हें मनन भी करना चाहिए कि आखिर पूर्व मुख्यमंत्री का क्षेत्र विकास की दौड़ में इतना क्यों पीछे छूट गया। साथ ही राजस्व मंत्री ने कहा कि देखते रहिए अभी पहलवान सिंह ने कांग्रेस ज्वाइन किया है। विकास कार्य का समर्थन वाले  लोग दूसरी पार्टियों को छोड़कर कांग्रेस में शामिल होंगे। मरवाही कांग्रेस में किसी प्रकार का विवाद नहीं है।

जीपीएम में नया उत्साह

                    अल्प प्रवास पर रायपुर से कोरबा रवानो होने के दौरान राजस्व मंत्री बिलासपुर पहुंचे। राजस्व मंत्री ने सीजी वाल से सवाल जवाब के दौरान बताया कि मरवाही में अभी चुनाव की नहीं विकास की बात  हो रही है। मुख्यमंत्री ने मुझे जीपीएम का प्रभारी मंत्री बनाया है। नया जिला बनने के बाद जीपीएम में नया उत्साह देखने को मिल रहा है। जिले के विकास को लेकर चाय चौपाल अभियान चलाया जा रहा है। इसके बहाने सरकार अंतिम व्यक्ति तक पहुंच रही है। लोगों को अभियान को लेकर खासा उत्साह है। मंत्री और सरकार के विधायक चाय चौपाल में छोटी से लेकर बड़ी समस्या को तेजी से निपटा रहे हैं। लोगों में भी जमकर उत्साह है कि मंत्री घर पहुंचकर समस्या को दूर कर रहे है। जबकि ऐसा पहले कभी नहीं किया गया। अभियान का उद्देश्य विकास से बहुत पीछे छूट गए मरवाही क्षेत्र को तेजी मुख्य धारा में लाना है

धरमजीत बताएं सीएम का क्षेत्र पिछड़ा क्यों..अब तकलीफ क्यों

                     कहीं यह अभियान मरवाही उप चुनाव के मद्देनजर तो नहीं…सवाल के जवाब में राजस्व मंत्री जय सिंह अग्रवाल ने कहा कि मैं जीपीएम जिले का प्रभारी मंत्री हूं। प्रभारी मंत्री होने के नाते मेरी जिम्मेदारी बनती है कि जिलेवासियों की समस्या को दूर करूं। जिला नया है..और मुझे हाल फिलहाल प्रभारी मंत्री बनाया गया  है। फिर इसके चुनाव से ज़ोड़कर देखना उचित नहीं है।  पहले भी मैं बीजापुर,सुकमा और दंतेवाड़ा का प्रभारी मंत्री हूं।क्षेत्र के विकास के लिए कुछ इसी तरह का अभियान चलाया। शिविर कैम्प लगाया। अधिकारियों के साथ अन्तिम व्यक्ति तक पहुंचने का प्रयास किया। लोगों की समस्याओं को दूर किया। दरअसल यह मेरी काम करने की स्टाइल है। किसी को तकलीफ नहीं होनी चाहिए।

घर पहुंच दूर कर रहे समस्या

                फिर भी मरवाही के विकास को लेकर सरकार कुछ ज्यादा चिन्तित है। क्या यह चुनाव के संकेत नहीं है। जय सिंह अग्रवाल ने कहा ऐसा नहीं है। कोविड 19 के चलते नया जिला बनने के बाद पर्याप्त फोकस नही किया गया। अब कुछ राहत है।  सरकार क्षेत्र के विकास और आधारभूत ठांचा को सुद्रढ़ बनाने का अभियान चला रही है। प्रभारी मंत्री बनने के बाद क्षेत्र में गया तो देखकर दुख हुआ कि लोगों को छोटे  छोटे काम भी सालों साल से रूके हैं। बडी समस्या की तो बात दूर की है। इसलिए ही हमने चाय चौपाल अभियान चला कर लोगों की समस्या को घर पहुंच दूर कर रहे हैं। 

जनता में भारी उत्साह        

                    चुनाव नजदीक आते ही नए जिले में कांग्रेसियों के बीच सिर फुटौव्वल का खेल शुरू हो गया है। राजस्व मंत्री ने सवाल के जवाब में कहा कि कोई सिरफुटौव्वल नहीं है। झगडा भी नहीं है। नया जिला है..लोग अपने नेता का स्वागत करने को आतुर हैं। हां यह जानकारी मिली कि कार्यकर्ता चाहते थे कि चाय चौपाल के दौरान डॉ.चरण दास महंत का भी फोटो है। यह संभव नहीं था। क्योंकि डॉ.महंत संवैधानिक पद पर हैं। उनका फोटो लगाना संभव नहीं है। चुनाव नजदीक है। लोग बात को बतगण बनाते । इस बात की जानकारी कार्यकर्ताओं को नहीं थी।

 

बताएं विकास नहीं होने का जिम्मेदार कौन

            धर्मजीत सिंह और अजीत जोगी ने आरोप लगाया है कि क्षेत्र में चुनाव के मद्देनजर सिस्टम का दुरूपयोग किया जा रहा है। राजस्व मंत्री ने बताया कि ठाकुर धरमजीत सिंह को चिंतित नहीं होना चाहिए। वह संवैधानिक पद रह चुके है। उन्हें मालूम होना चाहिए कि अभी मरवाही चुनाव को लेकर नोटिफिकेशन नहीं हुआ है। यदि क्षेत्र की छोटी बड़ी समस्या को हल करने से उन्हे तकलीफ है तो बहुत ही दुर्भााग्य की बात है। अमित जोगी भी विधायक रह चुके हैं। उनके पिता मरवाही क्षेत्र से विधायक और प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। बावजूद इसके मरवाही क्षेत्र का विकास नहीं हुआ। उन्हें सोचना चाहिए। हम काम कर रहे तो उन्हें समर्थन नहीं तो विरोध भी नहीं करना चाहिए। फिर भी सरकार की जिम्मेदारी है कि जनता की सेवा करे और हम कर रहे हैं। पिछले कई सालों से पूर्व मुख्यमंत्री का क्षेत्र होने के बाद भी मरवाही को उपेक्षित रखा गया है। हम उपेक्षा को दूर करने का प्रयास कर रहे हैं।

कांग्रेस ही जीतेगी..दोनों आपस में लड़ेंगे

            उप चुनाव में कांग्रेस का मुकाबला किससे देखते हैं। मंत्री ने कहा चुनाव तो  कांग्रेस ही जीतेगी। विपक्ष में दोनों पार्टी तय करे कि मुकाबला कौन करेगा। लेकिन दोनों ही पार्टियां हमारे आस पास नहीं है।

          मरवाही में मंत्रियों की भीड़ साबिते होता है कि कांग्रेस अमित जोगी की लोकप्रियता से डर गयी है। राजस्व मंत्री ने कहा डर का सवाल ही नहीं उठता। हमने भाजपा के 15 साल के शासनकाल को उखाड़ फेंका। ऐसे में डरने का सवाल ही नहीं उठता जब आपको पता चले कि मुख्यमंत्री के विकास कार्यों की जीत हो रही है। राजस्व मंत्री ने यह भी बताया कि मरवाही क्षेत्र में कांग्रेस नेताओं के बहिष्कार की खबर केवल और केवल अफवाह है।

              राजस्व मंत्री से बातचीत के दौरान जिला कांग्रेस ग्रामीण अध्यक्ष विजय केशरवानी भी मौजूद थे।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *