प्रभारी मंत्री ने कहा…कौशल्यानंदन हमारे राम….भाजपा बताए कहा गयी करोंडो ईंट..पदयात्रा का मतलब 370 का जवाब नहीं

बिलासपुर—हम धारा 370 का जवाब देने के लिए नहीं…बल्कि आजादी और देश के महानायक राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयंति मना रहे हैं। ठीक वैसे ही जैसे कोई व्यक्ति 25 या 50 साल बाद शादी की सालगिरह मनाता है। महात्मा गांधी और देश के नेताओं ने हमेशा कहा है कि भारत की आत्मा गांव में बसती है। इसलिए हम पदयात्रा कर गांधी के संदेश को गांव गांव तक पहुंचा रहे हैं। सरकार की जिम्मेदारी है कि राष्ट्रपित के संदेश और सपनों को गांव गांव तक पहुंचाए। यह बातें प्रभारी मंत्री ताम्रध्वज साहू ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कही। गृहमंत्री ने बताया कि जनता और पत्रकारों को सवाल करने का अधिकार है। मुख्यमंत्री ने अपने  बयान में यही कहा है सवाल पूछने वाला राष्ट्रद्रोही और धर्मद्रोही कैसे हो सकता है।

                             बिलासपुर जिले के प्रभारी मंत्री आज एक दिवसीय प्रवास पर बिलासपुर पहुंचे। इसके पहले गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने सरगांव में भूमिपूजन किया। छत्तीसगढ़ भवन पहुंचने के बाद पत्रकारों के सवालों का जवाब दिया। एक सवाल के जवाब में प्रभारी मंत्री ने कहा कि जनता और पत्रकारों को सरकार से सवाल पूछने का अधिकार है। सीएम ने भाजपा के उस विचारधारा पर जवाब दिया है कि सवाल पूछने वालों को भाजपा नेता राष्ट्रद्रोही करार देते हैं।

             क्या कांग्रेस की राजनीति भी भाजपा के नक्शेकदम पर उग्र दिशा में चलने लगी है। धारा 370 के जवाब में महात्मागांधी के बहाने 150  वीं जयंति का सहारा लिया जा रहा है। ताम्रध्वज ने बताया कि कांग्रेस उग्र नहीं बल्कि जनहित की राजनीति करती है। धारा 370 का जवाब 150 या पदयात्रा नहीं है। बल्कि देश आजादी के महानायक महात्मा गांधी की 150 वीं जयंति मना रहा है। ठीक वैसे ही जैसे आमजन 25 या 50 वीं सालगिरह मनाते हैं। महात्मा गांधी से लेकर बड़े बडे नेताओं ने कहा भी है कि भारत की आत्मा गांव में बसती है। सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि गांधी के सपनों और संदेशो को जन जन तक पहुंचाया जाए। कांग्रेस सरकार 150 वीं जयंति पर राष्ट्र्रपिता के संदेश को ग्रामीण भारत तक पहुंचाए। भूपेश सरकार वही कर भी रही है। महात्मा गांधी ने पदयात्रा कर लोगों को जोड़ा और देश को आजाद कराया।

                          भाजपा का आरोप है कि कांग्रेस नेता राम को बांट रहे हैं। जवाब में ताम्रध्वज साहू ने कहा कि भाजपा वाले जो करते हैं..वह करते नहीं…जो करते है उसे बताते नहीं। राम को भाजपा नेताओं ने बांटा है। हमने नहीं। भगवान राम देश की संस्कृति में आस्था और विश्वास का दूसरा नाम है। हमारे राम मर्यादा पुरूषोत्तम दशरथ,कोशल्या नंदन है। जनता के दुखहर्ता है। कौशल देश के राजा है। लोगों के सांसो में बसने वाले है।

ताम्रध्वज ने बताया कि भाजपा नेताओं ने राम के नाम का राजनीतिकरण किय है। सत्ता पाने के लिए राम के नाम का उपयोग किया है। घूमघूम कर देश देशवासियों की भावनाओं को भड़काया। शिलालेख लगाया। देश के एक एक नागरिकों से ईंट मंगवाया। बताएं अब वह सब ईंट है कहां। देश की जनता ने ईंट दिया। लेकिन अयोध्या में हजार पांच सौ ईंट नहीं है। यदि देश का एक एक नागरिक ईंट देगा तो अयोध्या मेें रहने का स्थान नहीं होगा। शिलाखलेख तो अब पता नहीं है। हम जानना चाहते हैं कि बिलासपुर का ईंट कहां है। दरअसल भाजपा ने भावनाओं से खिलवाड कर जनता को अंधेरे में रखते हुए सत्ता हित को साधा है।

मेयर चुनाव प्रत्यक्ष होगा या अप्रत्य़क्ष…। ताम्रध्वज ने कहा कि अभी मामला विचार में है। फैसला मुख्यमंत्री और मंत्रीमंडल को लेना है। हमारा प्रयास है कि चुनाव शांतिपूर्ण और निष्पक्ष हो। अप्रत्यक्ष चुनाव का भी सुझाव आया है। इस पर विचार विमर्श होना बाकी है।

भाजपा नेताओं का आरोप है कि कांग्रेस विधायक ने विजयदशमी पर्व का राजनीतिकरण किया है। मुख्यअतिथि नहीं बनाकर भाजपा विधायक का अपमान किया गया है। साहू ने कहा कि फिलहाल इसकी जानकारी उन्हें नहीं है। किसी को अपमानित करने का सवाल ही नहीं उठता है।

साहू ने बताया कि हम निकाय चुनाव के मद्देनजर जिला और ब्लाक संगठन नेताओं के साथ समीक्षा करेंगे। जनप्रतिनिधियों  के सुझावों को सुनेंगे। निकाय चुनाव जीत को लेकर रणनीतियों पर विचार विमर्श करेंगे। जरूरी टिप्स भी देंगे।  पार्टी की बैठक सरकारी भवन के सवाल पर साहू ने कहा कि हमने संगठन के जिम्मेदार लोगों से कहा है कि सरकारी तंत्र का दुरूपयोग नहीं होना चाहिए। स्वर्गीय लखीराम आडिटोरियम हाल का किराया पटाने के बाद ही समीक्षा बैठक का आयोजन किया जाए। जो भी जरूरी प्रक्रिया हो उसका पालन करते हुए निगम को भुगतान किया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *