बलरामपुर जिले से नक्सलियों को खदेड़ने पुलिस की रणनीति,आईजी खुद करेंगे ऑपरेशन की निगरानी

अम्बिकापुर।झारखंड सरहद से लेकर बलरामपुर जिले के चुनचुना-पुदांग इलाके में बीच-बीच में नक्सलियों द्वारा वाहनों और मशीनरी में आग लगाए जाने की घटना को डीजीपी डीएम अवस्थी ने गंभीरता से लिया है।गुरुवार को डीजीपी ने सरगुजा रेंज के आईजी रतनलाल डांगी और एसपी बलरामपुर टीआर कोशिमा के साथ बैठकर नक्सलियों के खिलाफ बड़ा ऑपरेशन चलाने की रणनीति तैयार की है। रणनीति के तहत जरूरत पड़ने पर अतिरिक्त बल भी उपलब्ध कराया जाएगा।झारखंड पुलिस से भी मदद ली जाएगी।इस पूरे ऑपरेशन की जवाबदारी सरगुजा रेंज के पुलिस महानिरीक्षक को दी गई है। सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

जो कम से कम 3 दिनों तक बलरामपुर में बैठकर बड़े ऑपरेशन की निगरानी करेंगे। 1 महीने के भीतर दूसरी बार सीधे बलरामपुर पहुंचेंगे और ऑपरेशन की समीक्षा करने की रणनीति तैयार करेंगे यहां से नक्सलियों को खदेड़ने की आवश्यकता को देखते हुए डीजीपी ने अंबिकापुर प्रवास के दौरान पिछले दिनों की घटना की समीक्षा की।

बलरामपुर पुलिस कप्तान ने नक्सलियों के खिलाफ अभियान और पिछले दिनों हुए घटनाक्रम से अवगत कराया। डीएम अवस्थी ने बताया कि झारखंड का बूढ़ा पहाड़ वर्षों से नक्सलियों की शरण स्थली के रूप में जाना जाता है।बूढ़ा पहाड़ का कुछ इलाका छत्तीसगढ़ के बलरामपुर जिले से भी जुड़ा है यही वजह है कि बीच-बीच में नक्सली ऐसी घटना कर रहे हैं। इलाके में फोर्स की मौजूदगी के लिए खोला गया है। इसके बाद भी घटनाएं हुई है।

अब ऐसी घटना न हो इसके लिए अभियान चलाने की जरूरत है बताया कि उन्होंने सरगुजा रेंज के पुलिस महानिरीक्षक रतन लाल डांगी को नक्सलियों के खिलाफ बड़ा ऑपरेशन निर्देशित किया है।बलरामपुर में दो-तीन दिन बैठेंगे और नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन चलाएंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *