विवेक हत्याकांड:अरविंद केजरीवाल का बीजेपी पर हमला, कहा- सत्ता पाने के लिए सारे हिंदुओं का भी ये कत्ल कर देंगे

नईदिल्ली।उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में शनिवार को एप्पल के एक सेल्स मैनेजर विवेक तिवारी की राज्य पुलिस के सिपाहियों द्वारा गोली मारकर हत्या के बाद इस मुद्दे पर राजनीतिक बयानबाजी भी जोर पकड़ ली है. इस मामले पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सफाई तो दी कि जरूरत पड़ने पर घटना की सीबीआई जांच कराई जाएगी. वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधा है. केजरीवाल ने बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा कि विवेक तिवारी तो हिंदू था तो फिर उसे क्यों मार दिया गया.

केजरीवाल ने रविवार सुबह ट्वीट करते हुए कहा, ‘विवेक तिवारी तो हिंदू था? फिर उसको इन्होंने क्यों मारा? बीजेपी के नेता पूरे देश में हिंदू लड़कियों का रेप करते घूमते हैं? अपनी आंखों से पर्दा हटाइए. बीजेपी हिंदुओं की हितैषी नहीं है. सत्ता पाने के लिए अगर इन्हें सारे हिंदुओं का कत्ल करना पड़े तो ये दो मिनट नहीं सोचेंगे’।

केजरीवाल के इस ट्वीट सियासी बयानबाजी और भी तेज हो गई और कई नेताओं ने उन्हीं पर निशाना साधना शुरू कर दिया. दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि केजरीवाल की सोच ओछी है.

तिवारी ने ट्वीट कर कहा, ‘आप कार्यकर्ता देख लो ओछी सोच अरविंद केजरीवाल की, जिसके कोम्प्रोमाईज कर लो बोलने पर सोनी की मौत, संतोष कोहली की माता जी कसूरवार केजरीवाल को सजा दिलाने के लिए लड़ रहीं हैं. विवेक तिवारी की हत्या हुई है, कसूरवार को सजा मिलेगी. हम उसके परिवार के साथ खड़े हैं.’।

इसके अलावा आम आदमी पार्टी के बागी नेता कपिल मिश्रा ने केजरीवाल पर निशाना साधा और कहा कि आप मोदी और बीजेपी के विरोध में पागल हो चुके हैं.

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘ये भाषा- हिन्दू को मारा, हिन्दू लड़कियों का रेप किया, हिंदुओं का कत्ल – बिल्कुल आग लगा देना चाहते हैं देश में. देश जलाकर क्या मिलेगा? सत्ता? पैसा? ईनाम? आप मोदी और भाजपा विरोध में पागल हो चुके हैं. ईलाज करवाइये.’

वहीं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस हत्याकांड को लेकर आदित्यनाथ सरकार की आलोचना की है और कहा कि यह दिखाता है कि बीजेपी सरकार में ‘एनकाउंटर’ की हिंसात्मक संस्कृति कितनी विकृत हो गई है.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘उप्र में पुलिस ने एक आम आदमी की हत्या कर के साबित कर दिया है कि भाजपा सरकार में ‘एनकाउंटर’ की हिंसात्मक संस्कृति कितनी विकृत हो गयी है. एक मल्टीनेशनल कम्पनी के एम्पलॉयी के मारे जाने से अंतरराष्ट्रीय निवेशकों की निगाह में भी प्रदेश की छवि विकृत हुई है. निंदनीय. हार्दिक संवेदना!’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *