सिसोदिया ने मांगा पचास हजार…पिता का बयान दर्ज

DSCN9971बिलासपुर–राजेन्द्र तिवारी और जीवन लाल मनहर के परिजनो ने हाईकोर्ट से न्याय की गुहार लगाई है। परिजनो का आरोप है कि पूर्व एसडीएम अर्जुन सिसोदिया ने जमानत के नाम पर लम्बी रकम की मांग की थी। रकम नहीं देने की सूरत में राजेन्द्र को जेल भेजने की धमकी भी दी थी । जिसके चलते उसने आत्मदाह कर लिया। हाईकोर्ट की डबल बेंच में जस्टिस दीवाकर प्रितिनकर ने परिजनो को 5 नवम्बर को पिटीशन लगने को कहा है।

                          राजेन्द्र तिवारी की मौत को एक सप्ताह से अधिक हो चुका है। प्रशासन और पुलिस से न्याय नहीं मिलने पर आज राजेन्द्र तिवारी की मां मधु तिवारी पिता रविशंकर तिवारी और बहन अन्नू तिवारी ने हाईकोर्ट मे अधिवक्ता सतीष चंद्र वर्मा के माध्यम से हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। एक अन्य मामले में जीवन लाल मनहर के बेटा नरेन्द्र कुमार और उसकी माँ ने अधिवक्ता अभिषेक पाण्डे के जरिए हाइकोर्ट का शरण लिया है। नरेन्द्र ने याचिका मे कहा है कि मेरे पिता जीवन लाल को तत्कालीन एसडीएम अर्जुन सिसोदिया ने जातिगत गाली गलौच और मारपीट की थी ।रूपये नहीं देने पर जेल भेज दिया। जमानत के लिए 40 हजार रूपये की अर्जुन सिसोदिया ने मांगा था। नरेन्द्र ने 20 हजार रूपये देने की बात भी कही है । दोनो ही मामलो मे हाईकोर्ट की डबल बेंज के न्यायाधीश दीवाकर प्रितिनकर और सी.बी बाजपेयी की अदालत ने मामले को संज्ञान में लेते हुए पीड़ितो को पीटीशन लगाने को कहा है।

राजेन्द्र के पिता का बयान दर्ज

राजेन्द्र तिवारी के पिता रविशंकर तिवारी आज जांच अधिकारी निर्मल तिग्गा के सामने उपस्थित होकर बयान दर्ज करवाया । उन्होने कहा है कि राजेन्द्र तिवारी अपने दोस्त विजय मनहर के साथ 15 अक्टूबर को एसडिएम अर्जुन सिसोदिया के सामने पेश हुआ था। राजेन्द्र को देखते हुए सिसोदिया ने अपना आपा खो दिया। उन्होंने धमकी देत हुए कहा कि तेरा भी हाल जीवन लाल जैसा कर दूंगा। तैश में आकर सिसोदिया ने कार्यालय के क्लर्क यादव को राजेन्द्र के खिलाफ  गिरफ्तारी वारंट जारी करने का आदेश दिया । राजेन्द्र को यादव लिपिक ने बताया कि सिसोदिया साहब जमानत के बदले 50 हजार रूपयो की मांग कर रहे है। नहीं देने पर उसे जेल भेज दिया जाएगा।  इसके बाद राजेन्द्र ने किसी तरह 10 हजार रूपये 16 अक्टूबर को यादव को दिया । बावजूद इसके एसडीएम ने उसके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया । इस बात से परेशान राजेन्द्र ने 26 तारीख को एसडीएम कार्यालय के सामने आत्मदाह किया । आग से झुलसे राजेन्द्र की रायपुर मे उपचार के दौरान मौत हो गई ।

पांच बिन्दुओं पर पांच… तिग्गा

राजेन्द्र तिवारी आत्मदाह मामले की जांच कर रहे अपर कलेक्टर निर्मल तिग्गा ने बताया कि  जांच पांच बिन्दुओ पर होगी । इसमे अलग से कुछ भी शामिल नही किया जाएगा। अब तक मामले मे दो शिकायतें मिली हैं। तय समय में जांच रिपोर्ट सक्षम अधिकारी को सौंपा दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *