छजकां ने दिखाई गुलाबी रंग की ताकत

IMG-20161126-WA0032बिलासपुर— पहले मरवाही के कोटमी…फिर ठाठापुर कवर्धा..छत्तीसगढ़ के कोने कोने में ताकत दिखाने के बाद जोगिया रंग ने आज बिलासपुर में भी हजारों कार्यकर्ताओं के साथ ताकत नुमाइश की। संविधान दिवस पर बाबा साहेब को याद करने पहुंची हजारों की भीड़ ने भाजपा और कांग्रेस के कान खड़े कर दिये। गुलाबी रंग की ताकत देखने के बाद कई लोगों की आंखें फटी की फटी रह गयी तो सुनने वालों के कान खड़े हो गए हैं। साइंस कालेज के विशाल मैदान के कोने कोने में आज गुलाबी रंग की बयार दिखाई दी। भीड़ से रह- रहकर बस एक ही आवाज आ रही थी…अब की दारी..जोगी की बारी…मैदान के बड़े बड़े पोस्टरों में अजीत जोगी के अलावा..अमित जोगी के भी फोटो नजर आए…निश्चित रूप फोटों की साइज किसी भी सूरत में अजीत जोगी से छोटे नहीं थे।

                                          मंच के आस पास लोगों के हाथों में बड़ी बड़ी तख्तियां भी नजर आयी। तख्तियों में छत्तीसगढ़ का नक्शा..नक्शे के किनारे अजीत जोगी की फोटो…और कई प्रकार के स्लोगन लिखे हुए थे। किसी के हाथों में जोगी आही रोजगार लाही..तो किसी के हाथों की तख्तियों में जोगी गरीबी मिटाही का नारा लिखा हुआ था।

                       विशाल पण्डाल के चारो तरफ छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस नेताओं की फोटों भी दिखाई दी। धरमजीत सिंह,अनिल टाह, आरके राय,बृजेश साहू,चन्द्रभान बारमते के अलावा कांग्रेस नेता सियाराम कौशिक भी छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस के फेहरिस्त में नजर आए। बिल्हा विधायक ने तो मंच को संबोधित भी किया। कांग्रेस और भाजपा को छत्तीसगढ़ का लुटेरा बताया। मंच को गुण्डरदेही विधायक आर.के.राय के अलावा मरवाही विधआयक अमित जोगी ने भी संबोधित किया।IMG20161126153827

                                    इसके पहले सुस्त भीड़ को अजीत जोगी की आने की खबर ने रिचार्ज किया। जोगी का वाहन से लेकर मंच पर पहुंचने तक समर्थकों फूल बरसाकर स्वागत किया। पूरा मंच फूलों की मोटी परत से मखमली गद्दे में तब्दील हो गया। अजीत जोगी के भाषण को सुनने के बाद लोगों को पूरा विश्वास हो गया कि अदकी दारी..जोगी बारी निश्चित है। इस दौरान जोगी ने संविधान निर्मात्री सभा के प्रमुख बाबा साहेब भीम राव आबेंडकर को फूल माला चढ़ाकर प्रणाम किया। भीड़ को संबोधित करते हुए जोगी ने कहा कि वह दिन अब दूर नहीं जब प्रदेश की सरकार दिल्ली से नहीं…रायपुर से चलेगी।

किराए की भीड़

                          कमोबेश सभी कांग्रेसियों ने बताया कि जोगी की सभा में  स्वस्फूर्त नहीं बल्कि किराए की भीड़ है। लोगों को पैसा देकर लाया गया है। दूर दराज ग्रामीणों को दिहाड़ी देकर जिन्दाबाद के नारे लगाने को कहा गया। भीड़ में ग्रामीणों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा है। कांग्रेस नेताओं की माने तो अनिल टाह,वाणी राव और सियाराम के पार्टी छोड़ने से कांग्रेस को कोई असर नहीं पड़ने वाला है। सभी नेता अवसरवादी हैं। जोगी की प्रदेश सरकार से मजबूत गढ़जोड़ है। लेकिन इस गढजोड़ से कांग्रेस पर कोई असर नहीं होने वाला है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...