जनता जानती है बाप बेटे की करनी और कथनी…अटल

congress- panjaबिलासपुर—कांग्रेस नेताओं ने पूर्व मुख्यमंत्री अजित जोगी के बयान की निंदा की है। पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल पर लगाये गये आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए अजीत जोगी के बयान की निंदा भी की है।

                                       कांग्रेस नेताओं ने भूपेश पर दिये गए जोगी के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया जाहिर की है। कांग्रेस नेताओं ने बताया कि अजीत जोगी  की फितरती नेता है। लोगों पर कीचड़ उछालना और सस्ती लोकप्रियता उनकी आदतो में शुमार है। जिस पार्टी ने उन्हें और उसके बेटे को मान सम्मान दिया उसी के साथ उन्होने साजिश किया। जोगी ने पूर्व विधायक  हीरा सिंह मरकाम पूर्व सांसद पी आर खूंटे जैसे अनेक छत्तीसगढ़िया नेताओ के साथ विश्वासघात किया है।

                       प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव, शहर अध्यक्ष नरेंद्र बोलर, जिला अध्यक्ष राजेन्द्र शुक्ल, प्रदेश सचिव पंकज सिंह, महेश दुबे, रामशरण यादव,निगम नेता प्रतिपक्ष शेख नाजिरुद्दीन, संभागीय प्रवक्ता अभय नारायण राय ने कहा कि  अजित जोगी रमन सिंह सरकार के हाथो की कठपुतली है।  भाजपा के अभिकर्ता के रूप में काम कर रहे हैं। अजीत जोगी भाजपा नेताओं के इशारे पर कांग्रेस के ऊपर आरोप लगा कर अपना असली चेहरा उजागर कर रहे हैं।

                             अटल ने बताया कि साल 2008 और 2013 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी में रहकर अजीत जोगी और विधायक बेटा अमित जोगी ने कांग्रेस को भाजपा के हाथों बेचने का काम किया। कांग्रेस के स्थापित नेताओ के खिलाफ जनता के बीच भ्रम पैदाकर हराया। जितने भी प्रदेश अध्यक्ष एवम नेता प्रतिपक्ष बनने सभी के खिलाफ षड्यंत्र कर बदनाम किया। बाप बेटा ने मिलकर अंतागढ़ में क्या किया जनता जा गयी है।

                                               कांग्रेस से बाहर होकर नई पार्टी का गठन की बात कह अपने समर्थको को धोखा दिया।  दरअसल जोगी ने भाजपा की बी टीम तैयार किया है। प्रदेश अध्यक्ष के ऊपर मनगढ़त आरोप भाजपा और जोगी की सोची समझी रणनीति है।

             राजेन्द्र शुक्ला ने कहा कि अजीत जोगी पहले यह बताये कि अमित जोगी को सरकारी बंगले की सुविधा सरकार ने किस अधिकार से दे रखा है। भूपेश बघेल के अध्यक्ष और टी. एस सिंह देव के नेता प्रतिपक्ष बनने के बाद कांग्रेस का संगठन लगातार मजबूत हो रहा है। मजबूत कांग्रेस को देख बाप बेटों के पेट में तकलीफ हो रही है। छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद अजीत जोगी के समर्थन में एक भी विधायक नही थे। सोनिया गाँधी ने छत्तीसगढ़ में विकास और सुशासन को ध्यान में रख कर मुख्यमंत्री बनाया। लेकिन तीन साल के ही भीतर अजीत जोगी ने कांग्रेस के गढ़ छत्तीसगढ़ को बुरे हालात में पहुचा दिया।

                    अभय नारायण राय ने बताया कि मुख्यमंत्री बनते ही अजीत जोगी प्रजातंत्र को गठरी में बंद कर हिटलर शाही करने लगे। जोगी के तानाशाही से तंग आकर कांग्रेस कार्यकर्ता परेशान थे। अब अजीत जोगी सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी के खिलाफ बोलकर अपना असली चेहरा उजागर कर रहे हैं। अंतागढ़ टेप कांड उजागर होने के बाद पिता पुत्र को प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल के खिलाफ बोलने का नैतिक अधिकार नही है। क्योंकि पिता पुत्र ना तो प्रजातंत्र को ही ठीक से जानते हैं और ना ही वफादारी…। कम से कम इसे भाजपा समझे या ना समझे..लेकिन जनता अच्छा तरह से समझ चुकी है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...