वन डे मैच मे छत्तीसगढ़ सरकार के अब आखिरी 15 ओवर

colle_meet_janरायपुर।मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में सोमवार सुबह मंत्रालय में कलेक्टर्स कॉन्फ्रेंस की शुरूआत हुई।मुख्यमंत्री ने  बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में राज्य के सभी 27 जिलों में टीम वर्क के जरिये अच्छी उपलब्धियां हासिल की गई है।सीएम ने कहा कि हर जिले में किसी न किसी योजना में बहुत अच्छे कार्य भी हुए हैं, कुछ योजनाओं में कुछ जिलों को और बेहतर करने की आवश्यकता है।डॉ रमन ने कहा कि अभी हमें राज्य के विकास और आम जनता की बेहतरी के लिए अपनी वास्तविक और सामूहिक क्षमताओं के अनुरूप आगे बहुत कुछ हासिल करने की जरूरत है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार की योजनाओं को अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने के लिए हम सबको टीम भावना से काम जारी रखना होगा।सीएम ने सरकार के सभी विभागों और अधिकारियों के काम-काज की तुलना क्रिकेट मैच से करते हुए कहा कि अभी तो हम लोग एक दिवसीय क्रिकेट मैच के आखिरी 15 ओव्हरों में प्रवेश कर रहे हैं। हम सबकों अपना प्रदर्शन और भी बेहतर करने की जरूरत है।

                                                     मुख्यमंत्री ने जिला कलेक्टरों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सर्वोच्च प्राथमिकता वाली विभिन्न योजनाओं की प्रगति के बारे में भी जानकारी ली। उन्होंने विशेष रूप से स्वच्छ भारत मिशन, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना, प्रधानमंत्री ग्रामीण और शहरी आवास योजना की विस्तार से समीक्षा की।सीएम ने कहा कि कलेक्टर्स कॉन्फ्रेंस के बाद हर जिले कलेक्टर को उनका जिला स्तरीय परफारमेंस की एक बुकलेट रिपोर्ट कार्ड के रूप में दी जाएगी। कलेक्टर्स कॉन्फ्रेंस की शुरूआत पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के प्रस्तुतिकरण से हुई। इसमें सबसे पहले प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) की समीक्षा की गई। इस योजना के क्रियान्वयन में बस्तर (जगदलपुर), राजनांदगांव और कबीरधाम जिलों के प्रदर्शन को सर्वश्रेष्ठ पाया गया, जबकि सरगुजा और जांजगीर-चाम्पा जिलों में और भी अधिक अच्छे प्रदर्शन की जरूरत बतायी गई।मुख्यमंत्री ने इसके बाद प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना की भी समीक्षा की।डॉ. सिंह ने स्वच्छ भारत मिशन की समीक्षा करते हुए कहा कि यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सर्वोच्च प्राथमिकता का मिशन है।

                                                                 सीएम डॉ. रमन नेे इस मिशन के तहत बन रहे शौचालयों की गुणवत्ता पर भी गंभीरता से ध्यान देने की जरूरत बतायी। उन्होंने कहा कि बिलासपुर, बेमेतरा और कबीरधाम (कवर्धा) जिलों से शौचालयों की गुणवत्ता को लेकर शिकायतें मिली है। कलेक्टर इन पर तत्काल ध्यान दें।प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने दुर्ग, रायपुर और सरगुजा जिलों के प्रदर्शन को सुधारने की जरूरत बतायी। उन्होंने इस योजना में बलरामपुर, महासमुंद और जशपुर जिले की अब तक की उपलब्धियों को सराहनीय बताया।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...