बिलासपुर की सफाई पर अब नज़र रखेंगे सेटेलाइट कैमरे,मंत्री अमर अग्रवाल ने किया सेंटर का उद्घाटन,पढिए ऐसा होगा GPS आधारित ट्रैकिंग सिस्टम

जीआईएस एवं जीपीएस बेस्ड मैकेनाइज्ड एंड मैन्युल स्वीपिंग ऑपरेशन कमांड सेंटर,bilaspur,news,नगरीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल,जीआईएस एवं जीपीएस आधारित ट्रैकिंग सिस्टम,बिलासपुर–नगरीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल ने विकास भवन में प्रदेश के पहले जीआईएस और जीपीएस बेस्ड मैकेनाइज्ड एंड मैन्युल स्वीपिंग ऑपरेशन कमांड सेंटर का उद्घाटन किया। कमांड सेंटर के माध्यम से शहर में मैकेनाइज्ड और मैन्युअल स्वीपिंग की एक जगह से ही मॉनिटरिंग की जा सकेगी। उद्घाटन अवसर पर मंत्री ने मैकेनाइज्ड स्वीपिंग और कमांड सेंटर ऑपरेट करने वाली कंपनी के अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिये। 2 अक्टूबर तक पूरे शहर की साफ-सफाई में बड़ा परिवर्तन दिखना चाहिये। अग्रवाल ने निगम अधिकारियों से कहा कि कमांड सेंटर के माध्यम से सड़कों की स्थिति को भी मॉनिटर करें।  जिस सड़क में आवश्यकता हो वहां मरम्मत कराएं।कमांड सेंटर में जीआईएस और जीपीएस आधारित ट्रैकिंग सिस्टम के जरिये स्वीपिंग मशीनों से सफाई मशीनों की ऑनलाईन मॉनिटरिंग की जाएगी। कमांड सेंटर में सैटेलाईट इमेज के माध्यम से छोटी-छोटी गलियों में गंदगी देखकर मशीनीकृत और मैन्युल सफाई कराई जा सकेगी। कमांड सेंटर में सफाई मशीनों को लाईव लोकेट किया जा सकेगा। सफाई मशीन में चार कैमरे लगाए गये है जो सीधे कमांड सेंटर से कनेक्ट हैं। प्रत्येक गली की साफ-सफाई की मॉनिटरिंग होगी।  सर्वे में 6 सौ ऐसी जगहों को चिह्नित किया गया है जहां ज्यादा कचरा होता है, वहां सफाई की जिम्मेदारी स्पेशल टीम की होगी।
जीपीएस से वाहनों पर नजर
जीपीएस आधारित ट्रैकिंग सिस्टम-सभी वाहनों के पूरे मार्ग का नक्शा पूरे काम काजी घंटों के साथ प्रदर्शित होगा। सभी सड़कों का कवरेज पता लगाया जा सकेगा। जीपीएस डिवाईस मशीन की स्पीड लिमिट को दर्शाने में मदद करेगी। इसके जरिए पता चलेगा कि मशीन चल रही है या नहीं। अगर मशीन के चालन में कोई फेर बदल होता है तो ऑफिस के नंबर पर मैसेज आ जाएगा। मशीनों को लाइव लोकेट किया जा सके इसके लिये प्रत्येक मशीन में चार कैमरे लगाए गये हैं।
शहर को कलर कोडिंग में विभाजन
जीआईएस आधारित मैन्युल सफाई-पूरा शहर विशिष्ट कलर कोडिंग के साथ बीट्स में बांटा गया है। इससे पूरे शहर को कवर किया जा सकेगा। कोई भी क्षेत्र सफाई व्यवस्था से न छूटने पाए। सारी बीट्स विभिन्न कलर कॉड्स के अन्तर्गत उचित क्षेत्र समझने के लिये मूल सड़क स्तर पर बनाई गई है।
सफाई में चाहिए आमूल चूल परिवर्तन
उद्घाटन कार्यक्रम के दौारन अमर अग्रवाल ने कंपनी अधिकारियों को सख्त निर्देश दिया है कि 2 अक्टूबर के पहले शहर की सफाई-व्यवस्था में अमूलचूक परिवर्तन देखने को मिलना चाहिए। शहर में 27 मशीनों से सफाई कराई जा रही है। इसके साथ ही एक इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम भी रखी गई है। जहां भी गंदगी की सूचना मिलेगी वहां तत्काल इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम के माध्यम से सफाई कराई जाएगी। सफाई मशीनों से सफाई के साथ सड़कों की धुलाई भी कराई जा रही है। सड़को के किनारे लगे साईन बोर्ड में जमी धूल को भी पानी से साफ कराया जा रहा है। उद्घाटन अवसर पर महापौर किशोर राय, निगम आयुक्त श्री सौमिल रंजन चौबे, निगम सभापति अशोक विधानी, उमेश चंद्र कुमार और निगम के अधिकारी कर्मचारी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...