जोगी कॉंग्रेस नेता रिजवी बोले-महाधिवक्ता कनक तिवारी पर भाजपा की टिप्पणी गैरवाजिब और स्तरहीन

सीजेआई रंजन गोगोई,सीजेआई दीपक मिश्रा,जज जस्टिस कुरियन जोसेफ,रिटायर्ड सुप्रीम कोर्ट,वरिष्ठ अधिवक्ता इकबाल अहमद रिजवी,जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे),रायपुर।जकांछ नेता, मध्यप्रदेश पाठ्यपुस्तक निगम के पूर्व अध्यक्ष, वरिष्ठ अधिवक्ता इकबाल अहमद रिजवी ने प्रदेश के महाधिवक्ता  कनक तिवारी पर भाजपा विधि प्रकोष्ठ के नरेशचन्द्र गुप्ता द्वारा की गयी टिप्पणी गैरवाजिब एवं भाजपा की स्तरहीन, अमर्यादित प्रवृत्ति की ओर इंगित करता है। महाधिवक्ता कनक तिवारी किसी परिचय के मोहताज नही है। वह छत्तीसगढ़ के वकील जगत के दैदिप्यमान नक्षत्र के सामान है। श्री तिवारी द्वारा कांग्रेस के स्थापना दिवस पर व्यक्त उद््गार उनकी विलक्षण प्रतिभा एवं भाजपा की असलियत को उजागर करने वाला है, उनके व्यक्त विचारो ने मानो भाजपा की दुखतीरग पर हाथ रख दिया है। जिससे भाजपाई तिलमिला गये है तथा अनर्गल बयानबाजी कर अपनी हताशा उजागर कर रहे है।(cgwall.com के WhatsApp ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करे)
देश का संविधान देशवासियो को अपने विचार व्यक्त करने की आजादी देता है जो अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अंतर्गत आता है। उनके विचार कटुसत्य है और उस पर अडिग भी है। भाजपा का कोई भी व्यक्ति उनके द्वारा व्यक्त किये गये विचार पर बहस करने आमंत्रित है। 
रिजवी ने कहा है कि भाजपा द्वारा कनक तिवारी के कथन पर उठाये जा रहे प्रश्न बेबुनियाद एवं भाजपाई कुंठा को दर्शाता है। भाजपाई अपनी करारी हार को बर्दाश्त नही कर पा रहे है तथा अपनी खीझ उजागर करते नजर आ रहे है। उन्होने भाजपा पर वार करते हुए कहा है कि भाजपा सरकार ने पूर्व महाधिवक्ता जुगल किशोर गिल्डा को नागपुर, महाराष्ट्र से आयात कर स्थानीय काबिल वकीलो का हक मारकर महाधिवक्ता के पद पर थोपा था।
अर्थात् गिल्डा आउटसोर्सिग के महाधिवक्ता ही कहलाये जायेगे, जबकि कनक तिवारी छत्तीसगढ़ के माटी पुत्र है। नरेशचन्द्र गुप्ता को इस बचकाने गैरवाजिब बयान/आरोप के लिए न केवल कनक तिवारी वरन् प्रदेशवासियो से सार्वजनिक क्षमा मांगनी चाहिए तथा भविष्य में ऐसे ऊलजलूल, बेतुके बयानो से परहेज करना चाहिए। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *