PM मोदी ने सपा-रालोद-बसपा को बताया ‘सराब’,राहुल गांधी की न्याय स्कीम पर बोले- खाता कहां है, किसे देंगे पैसे


मेरठ-उत्तर प्रदेश के मेरठ से पीएम मोदी ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए पीएम ने अपनी रैली का आगाज मेरठ से किया। रैली में एक तरफ जहां पीएम मोदी ने विपक्ष पर जोरदार हमला किया तो वहीं दूसरी ओर अपनी सरकार की सफलताएं गिनाईं। पीएम मोदी ने कहा- इस चौकीदार ने कहा था कि सबको हिसाब दूंगा और सबका हिसाब लूंगा। गौरतलब है कि मेरठ के बाद पीएम की दूसरी रैली उत्तराखंड के रुद्रपुर में और तीसरी रैली जम्मू के अखनूर ब्रिज के पास होगी।

हम सब के आदरणीय चौधरी चरण सिंह को भी मैं नमन करता हूं. चौधरी चरण सिंह जी देश के लिए महत्वपूर्ण योगदान दिया। उन सपूतों में से हैं जिन्होंने देश की राजनीति को खेत खलिहान और किसान पर ध्यान देने के लिए मजबूर किया। पांच वर्ष पहले जब मैंने आप सभी से आशीर्वाद मांगा था तो आप सभी ने भरपूर प्यार दिया था, मैंने कहा था कि आपके प्यार को ब्याज सहित लौटाउंगा और मैंने ये भी कहा था जो काम किया है जो काम किया है उसका हिसाब भी दूंगा। और हां, अपना हिसाब दूंगा साथ साथ दूसरों का हिसाब भी लूंगा। ये दोनों काम साथ साथ चलने वाले हैं। तभी तो होगा हिसाब बराबर. आप तो जानते हैं कि मैं चौकीदार हूं और चौकीदार कभी नाइंसाफी नहीं करता है।

एनडीए का काम तो रखूंगा ही और विरोधियों से पूछूंगा कि जब आप सरकार में थे तो नाकाम क्यों रहे, क्यों देश का भरोसा तोड़ा। एक तरफ विकास का ठोस आधार है, तो दूसरी तरफ न नीति है न विचार है और ना ही कहीं नीयत नजर आती है। एक तऱफ फैसले लेने वाली सरकार है तो दूसरी तरफ फैसले टालने वाला इतिहास मौजूद है।

वंशवाद और भ्रष्टाचार का बोलबाला है, एक तरफ दमदार चौकीदार है दूसरी तरफ दागदारों की भरमार है। साथियों, हमारा विजन नए भारत का है ऐसे भारत का जो अपने गौरवशाली अतीत के अनुरुप ही वैभवशाली होगा। एक ऐसा भारत जिसकी नई पहचान होगी, जहां सुरक्षा समृद्धि और सम्मान के संस्कार होंगे। सुरक्षा देश के दुश्मनों से, सुरक्षा आतंकवाद से, सुरक्षा भ्रष्टाचार से, सुरक्षा बीमारी से, समृद्धि- ज्ञान, विज्ञान, आचार-व्यवहार की, सम्मान श्रम का, सम्मान काम का, सम्मान बेटियों का, सम्मान देश के मान का अभिमान का। इस देश में सिर्फ नारे लगाने वाली सरकारें बहुत देखीं हैं लेकिन पहली बार एक ऐसी निर्णायक सरकार भी देख रहा है जो अपने संकल्प को सिद्ध करना जानती है।

पीएम मोदी ने राहुल गांधी की न्यूनतम आय योजना (न्याय) पर कहा कि जब मैं बैंक खाते खुलवाता था तो कुछ बुद्धिमान लोग कहते थे कि देश में बैंक ही नहीं है खाते से क्या होगा. जो 70 साल में गरीब का खाता नहीं खुलवा सके वो आज कहते हैं कि खाते में पैसे डालेंगे. देश से गरीबी हटाने वाले ये ध्यान रखें कि देश से गरीबी तब हटेगी जब देश से कांग्रेस हटेगी.पीएम मोदी ने जब अपनी सरकार में जनधन योजना शुरू की थी तो इसका विरोध कांग्रेस सहित कई विपक्षी पार्टियों ने किया था. कांग्रेस ने तो यहां तक कह दिया था कि देश में जब बैंक ही नहीं हैं तो केंद्र सरकार द्वारा बैंक में खाता खुलवाने से क्या फायदा होगा.

कोई भी राजनीतिक दबाव, कोई भी अंतरराष्ट्रीय आपके इस चौकीदार को डिगा पाएगा, ना ही कोई डरा पाएगा। मैं किसी तरह का बोझ नहीं लेकर चलता। बोझ रखूं भी, मेरे पास अपना है भी क्या जो कुछ भी है देश का दिया हुआ है। जो देश ने दिया, जितना दिया है वो बहुत कुछ है । चिंता तो उनकी होती है जो कुछ खोने से डरता है जिसको वंश और विरासत के बारे में सोचना है। नीयत में खोट उसके आती है जो अपने परिवार के हित के बारे में सोचता है।

सपा-बसपा और कांग्रेस पर हमला करते हुए उन्होने कहा कि बहन जी ने कभी चिट्ठी लिखी होती तो मुझे खुशी होती। अगर अखिलेश जी ने गरीबों के घर, गैस का सिलेंडर का मुद्दा उठाया होता तो खुशी होती। चौधरी अजीत सिंह कभी किसानों की समस्या लेकर आते तो मैं चर्चा करता। आज चौधरी चरण सिंह कितने दुखी होते होंगे। कांग्रेस की किसान नेताओं से विशेष दुश्मनी रही है। चौधरी साहब को जेल में डाल दिया गया था, पीएम पद से हटाया था। दीनबंधु छोटूराम के साथ भी किसान ने यही किया था। कांग्रेस ने इस्तीफा देने के लिए मजबूर कर दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *