फटकार के बाद सीमेन्ट दाम में गिरावट…कम्पनियों का यू टर्न…शासन का आदेश…मनमानी के खिलाफ उठाएंगे सख्त कदम

बिलासपुर— शासन के दबाव में सीमेन्ट व्यापारियों को एक बार फिर दर कम करने के लिए मजबूर होना पड़ा है। सीमेन्ट का दाम घटकर 247 रूपए प्रति बैग हो गया है। बताते चले कि दो महीने पहले भी सीमेन्ट व्यापारियों ने मनमानी करते हुए दाम बढ़ा दिया था। लेकिन सरकार के हस्तक्षेप के बाद सीमेन्ट कम्पनियों को मूल्य वृद्धि वापस लेना पड़ा था।

              हाल फिलहाल एक बार फिर व्यापारियों ने मनमानी करते हुए सीमेन्ट के प्रति बैग पर 20 से 25 रूपए दाम बढ़ा दिया था। गूरूवार को सीमेन्ट कम्पनी प्रबंधन प्रमुखों के साथ बैठक में सरकार ने सख्त कदम उठाते हुए सीमेन्ट के दाम कम करने को कहा है।

                   सीमेन्ट कम्पनियो पर लगाम कसते हुए शासन ने स्प्ष्ट निर्देश दिया है कि मनमानी को किसी भी सूरत में बर्दास्त नहीं किया जाएगा। समझाइश के बाद भी यदि बढ़े हुए दाम वापस नहीं होते हैं तो कार्रवाई के लिए कम्पनियां जिम्मेदार होंगी। सख्त निर्देश के बाद सीमेन्ट बनाने वाली कम्पनियों ने सीमेन्ट दाम को प्रति बैग 270 रूपए से घटाकर 247 रूपए कर दिया है।

                बताते चलें की दो महीने पहले भी छत्तीसग़ढ में सीमेन्ट उत्पादन करने वाली कम्पनियों ने दाम बढ़ाकर प्रति बैग 247 के मुकाबले 260 और 262 कर दिया था। सरकार के दवाब में कम्पनियों को दाम कम करना पड़ा। एक बार फिर सरकार ने बढ़े हुए दाम को नियंत्रित करने का आदेश दिया है।

                   जानकारी के अनुसार अल्ट्राटेक को छोड़कर कमोबेश सभी कम्पनियों ने हाल फिलहाल सीमेन्ट के दाम बढ़ाकर प्रति बैग 270 रूपए कर दिया था। लोगों की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए सरकार ने कम्पनियों को एक बार फटकार लगाते हुए दाम को नियंत्रण में रखने को कहा। गुरूवार को शासन की सख्ती के बाद सीमेन्ट व्यवासियों ने सीमेन्ट का दाम 247 रूपए प्रति बैग कर दिया है।

                    बताते चलें कि इस समय छत्तीसगढ़ में सीमेन्ट का दाम सीमावर्ती राज्यों और शहरों जैसे उड़ीसा. महाराष्ट्र, मुम्बई, हैदराबाद, नागपुर के मुकाबले बहुत कम है। उड़ीसा में सीमेन्ट का दाम प्रति बैग 330 रूपए, मुम्बई में 360, हैदराबाद में 340 और नागपुर में सीमेन्ट का प्रति बैग दाम 350 रूपए हैं। जबकि उसी कम्पनी की सीमेन्ट प्रदेश में 247 रूपए में बेची जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *