जनपद पंचायत उपाध्यक्ष ने कहा…ग्रामीणों में हाहाकार..कोयला को पिलाया जा रहा पानी…किसकr इजाजत से खुदा 20 बोर

बिलासपुर—बिल्हा जनपद पंचायत उपाध्यक्ष विक्रम सिंह ने कलेक्टर से बेलतरा स्थित कोलवाशरी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। विक्रम सिंह ने लिखित में बताया कि इन्द्रमणी मिनरल्स कोलवाशरी अतिवादी प्रवृति ने गांव वालों का जीना मुश्किल कर दिया है। एक तरफ शासन ने नया बोर कराने पर प्रतिबंध लगा दिया है। दूसरी तरफ कोलवाशरी ने कोयला को तर बदतर करने 20 बोर नया खुदवाया है। जिसके कारण गांव का जलस्तर बहुत नीचे चला गया है। गांव के कुएं और अन्य बोर सूख गए है।

                      बिल्हा जनपद पंचायत उपाध्यक्ष विक्रम ने बताया कि बेलतरा में इन्द्रमणी कोल वाशरी की तानाशाही का परिणाम ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। पर्यावरण नियमों और आदेश की धज्जिया उड़ाते हुए प्रशासन के नाक के नीचे लगातार बोर कर रहा है। अब तक पन्द्रह से बीस बोर इन कुछ दिनों में हुए हैं। जिसके चलते गांव का जलस्तर काफी नीचे चला गया है।

विक्रम ने बताया कि डेढ़ दर्जन से अधिक बोर के माध्यम से कोयले के पहाड़ को सीचा जा रहा है। कोयला का पानी खेतों में बह रहा है। जमीन का बंजर होना निश्चित है। लेकिन इन दिनों सबसे बड़ी परेशानी ग्रामीणों को पानी नहीं मिलना है। कोलवाशरी के अंधा धुंध बोर अभियान से गांव का जल स्तर इतना नीचे चला गया है कि कुएं बावली और सरकारी बोर सूख गए हैं। जिसके चलते ग्रामीणों को दूसरे गाव से पानी लाना पड़ रहा है। ग्राम वासियो में प्रशासन के खिलाफ आक्रोश भी बढ़ता जा रहा है।

विक्रम के अनुसार एक तरफ जिला प्रशासन कहता है कि विपरीत परिस्थियों और उचित मांग पर ही नए बोर खोदने की अनुमति दी जाएगी। समझ से परे है कि आखिर इन्द्रमणि कोल वाशरी को बोर खोदने की अनुमति क्यो दी गयी। क्या ग्रामीणो के जीवन से कोयला माफियों का कोयला ज्यादा महत्वपूर्ण है। समझने वाली बात है कि एक कोलवाशरी में डेढ़ दर्जन से अधिक बोर करने का आदेश शासन ने दिया ही क्यों।

विक्रम ने बताया कि यदि उनके पत्र को गंभीरता से नहीं लिया गया तो कलेक्टर कार्यालय के सामने धरना देंगे। शासन की कोलमाफियों की जुगलबंदी का पर्दाफाश भी करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *