प्रदेश कांग्रेस सरकार पर अमर ने साधा निशाना.. कहा..रोजगार के लिए दर दर भटक रहे युवा..और सरकार को गोबर खरीदने से नहीं मिल रही फुर्सत

बिलासपुर—-2019 से लंबित 16 प्रतिशत डीए और एचआरए छत्तीसगढ़ के सभी  शासकीय सेवकों और सवा लाख पेंशनरों को नहीं दिया जा रहा है। बेरोजगारों का आंकड़ा दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है। गोबर के लिए तो पैसे हैं। लेकिन बेरोजगार युवकों को नौकरी दिए जाने के नाम पर सरकार का खजाना हो जाता है। पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल ने यह बातें वार्ड समस्या के खिलाफ वार्डों में किए जा रहे भाजपा कार्यकर्ता के धरना प्रदर्शन के दौरान कही।
 
                         धरना प्रदर्शन को संबोधित करते हुए अमर अग्रवाल ने कहा कि पिछले दिनों शासकीय कर्मचारियों ने प्रदेशव्यापी हड़ताल किया। दबाव पड़ने पर सरकार ने 1 जुलाई 2021 से 5 परसेंट डीए का ऐलान कर सेवकों का अपमान किया है।  सरकार को चुनावी वायदों और शासकीय सेवकों की मांग को पूरा करना होगा। केंद्र सरकार 28 प्रतिशत महंगाई भत्ता दे रही है। राज्य सरकार ने 11 प्रतिशत महंगाई भत्ता देकर पल्ला झाड़ लिया है। ऐसा किया जाना राज्य कर्मचारियों का अपमान है।
 
              अमर ने उपस्थित लोगों को बताया कि सरकार सभी मोर्चा में असफल साबित हुई है।  अफसरों की भर्ती के लिए पीएससी परीक्षा का आयोजन किया जाता है। सच्चाई तो यहा है कि पीएससी को प्रश्न छापने का ढंग भी मालूम नही हैष। 
 
                        अमर ने कहा लोक सेवा आयोग 2019 भर्ती के लिए 242 पदों के परिणाम आने वाले हैं। आपके घर के बेटा बेटी राज्य सरकार के विभिन्न पदों पर चयनित होंगे। सभी को मालूम है कि पीएससी की चयन प्रक्रिया पूरी तरह से प्रदूषित है। लोकसेवा आयोग भर्ती प्रक्रिया एक साल की वजाय तीन साल में पूरा किया जा रहा है।  परीविक्षा अवधि को बढ़ाकर 3 साल कर दिया गया है। युवाओं को ऐसी सजा पूरे देश में किसी राज्य में नहीं है। अमर ने बताया कि  जो बेटा बेटी डीएसपी और डिप्टी कलेक्टर बनेंगे। बताना चाहूंगा उनको पूर्णकालिक वेतन देने के लिए सरकार के पास रूपए नहीं है।
 
                   दुख जाहिर करते हुए अमर ने कहा कि शिक्षक की भर्ती रुकी हुई है। सब इंस्पेक्टर का आवेदन भरने के बाद सैकड़ों युवा चार साल से भर्ती का इंतजार कर रहे हैं। मनरेगा स्कीम में लाखों लोगों को फर्जी भुगतान किया जा रहा है। सरकार रोजगार तो देने की बात करती है। लेकिन बेरोजगारों के साथ खुलेआम अन्याय किया जा रहा है।
 
                         अपने भाषण में अमर ने कहा कि शासकीय सेवकों को क्रमोन्नति पदोन्नति और महंगाई भाता अलाउंस देने के नाम पर सरकार का खजाना खाली बताया जाता है। लेकिन गोबर खरीदने के लिए सरकार के पास पैसा है। जबकि गोबर से बनी  घटिया क्वालिटी की खाद किसानों के लिए अनुपयोगी है। सरकारी विभागों में खाद खरीदने के लिए कलेक्टर कार्यालय से आदेश जारी किया जा रहा है। ऐसी बाते अत्यंत हास्यास्पद है। 
 
               अमर अग्रवाल ने उदई चौक कतियापारा, महामाया चौक आंटो स्टैण्ड के पास सरकंडा, राम मंदिर रोड तिलक नगर, चंद्रिका होटल के पीछे, इमलीपारा रोड में आयोजित धरना प्रदर्शन को संबोधित किया। सभी धरनों में भाजपा कार्यकर्ताओं ने बढ चढ़कर हिस्सा लिया। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *