भाजपा सांसद की मुख्यमंत्री को चिट्ठी

Shri Mi
3 Min Read

नई दिल्ली। भाजपा राज्य सभा सांसद हरनाथ सिंह यादव ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में फिलिस्तीन के समर्थन में रैली निकालने वाले छात्रों पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

भाजपा सांसद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान का हवाला देते हुए कहा कि इस आतंकी घटना पर भारत इजरायल के साथ है, लेकिन, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में न केवल भारतीय हितों और दृष्टिकोण के खिलाफ रैली निकाली गई बल्कि आतंकवाद के समर्थन में नारे भी लगाए गए। इसलिए ऐसा करने वाले छात्रों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।

यादव ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लिखे अपने पत्र में लिखा है कि, “अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय देश के अत्यंत प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में से एक है, जहां देश-विदेश के छात्र बड़ी संख्या में शिक्षा प्राप्त करने आते हैं। शिक्षण संस्थान शिक्षा और ज्ञान प्राप्ति के पवित्र मंदिर होते हैं।

उनकी गरिमा और प्रतिष्ठा बनाए रखना प्रत्येक शिक्षक, प्रत्येक छात्र और संस्थान प्रबंधन की महती जिम्मेदारी होती है। परंतु, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय लंबे अरसे से कतिपय तत्वों के गलत कृत्यों व गलत आचरण के कारण अनेक प्रकार के प्रश्नों के घेरे में चर्चा में रहता है। जिससे विश्व विद्यालय की प्रतिष्ठा और छवि को गहरा धक्का लगता है।”

भाजपा सांसद ने पत्र में आगे कहा, “अभी चार दिन पहले आतंकवादी संगठन हमास ने इजरायल पर हमला किया। जिसमें हमास आतंकियों ने इजरायल की महिलाओं, लड़कियों, तीन-तीन चार-चार साल की आयु के अबोध छोटे-छोटे बच्चों के साथ जो अमानवीय और वहशी कृत्य किए हैं, उन्हें बंधक बना कर लोहे के जालों में बंद कर रखा है, यह मानवता के ऊपर कभी न मिटने वाला कलंक है। जो विश्व के इतिहास के पन्नों में कहीं पर नहीं मिलेगा। भारत ने बिना किसी देरी के अपना स्टैंड साफ कर दिया और इजरायल पर हुए हमले पर हमास के आतंकवादी संगठन के हमले की निंदा की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा भारत इस संकट की घड़ी में आतंकवाद से पीड़ित इजरायल के साथ है। परंतु, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में भारतीय हितों और दृष्टिकोण के खिलाफ रैली निकाली गई, आतंकवाद के समर्थन में नारे लगाए गए। मैं यह भी स्पष्ट कर दूं कि विश्वविद्यालय के अधिकांश छात्र पढ़ाई करने आते है, परंतु कुछ तत्व राजनीति करते हैं और विश्विद्यालय के वातावरण को खराब करते हैं।

विश्वविद्यालय की गरिमा को बनाए रखने के लिए यह आवश्यक है कि भारत और विश्वविद्यालय के हितों के विरुद्ध जिन छात्रों ने आतंकवादी संगठन हमास का समर्थन किया, उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई होनी चाहिए। भारत आतंकवाद के खिलाफ लड़े और भारत के कुछ लोग आतंकवादियों का समर्थन करें, यह कैसे स्वीकार हो सकता है। आप विषय की गंभीरता को मुझसे अधिक अच्छा समझते हैं इसलिए जनमानस कठोर और व्यापक कार्रवाई की अपेक्षा करता है।”

close