जिले में बेहतर स्वास्थ्य सुविधा के लिए कलेक्टर ने ली समीक्षा बैठक

रामानुजगंज(पृथ्वीलाल केशरी) नवपदस्थ कलेक्टर विजय दयाराम के.ने जिले में बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था एवं चिकित्सा सुविधाओं को लेकर स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक में दिए। कलेक्टर ने ग्रामीण अंचलों में स्वास्थ्य सुविधाओं व लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता लाने पर जोर देते हुए कहा कि हर जान हमारे लिए महत्वपूर्ण है, अतः आप सभी अपना दायित्व को समझते हुए निःस्वार्थ भाव से उन्हें स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराएं। उन्होंने विकासखण्डवार दी जा रही स्वास्थ्य सुविधा के संबंध में जानकारी ली, विभाग के अंतर्गत चल रहे कार्यक्रमों का त्रैमासिक लक्ष्य निर्धारित कर सही जानकारी के साथ आंकड़ा तैयार करने के निर्देश दिये।

उन्होंने जर्जर उप स्वास्थ्य केन्द्रों को नवीन भवन हेतु प्राथमिकता से प्राक्कलन तैयार कर प्रस्तुत करने को कहा। उन्होंने सभी स्वास्थ्य अधिकारियों से स्वास्थ्य केन्द्र हेतु दवाई की खरीदी धन्वंतरी दुकान से ही खरीदी करने के निर्देश दिये तथा प्रत्येक सोमवार को दवाईओं की खरीदी की जानकारी से अवगत कराने को कहा। बैठक में जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती रीता यादव, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बसंत सिंह, जिला कार्यक्रम प्रबंधक श्री गणपत नायक, सिविल सर्जन सह अस्पताल अधीक्षक डॉ. आर.बी.प्रजापति, समस्त खण्ड चिकित्सा अधिकारी, समस्त खण्ड कार्यक्रम प्रबंधक सहित स्वास्थ्य विभाग से जुड़े अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।

पण्डो व पहाड़ी कोरवाओं को करें जागरूक

उन्होंने विशेष पिछड़ी जनजाति पण्डो व पहाड़ी कोरवाओं को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने व उन्हें बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के निर्देश दिये, साथ ही उन्हें आयुष्मान/स्वास्थ्य कार्ड शत्-प्रतिशत उपलब्ध कराने को कहा। उन्होंने गर्भवती माताओं का सर्वे एवं संस्थागत प्रसव की जानकारी ली एवं गर्भवती माताओं का नियमित स्वास्थ्य परीक्षण करने तथा शत्-प्रतिशत संस्थागत प्रसव कराने के निर्देश दिये।

क्षेत्र में पीने वाले पानी को करें क्लोरीनयुक्त

कलेक्टर ने पेयजल से होने वाले मौसमी बीमारी की रोकथाम हेतु ऐसे क्षेत्र जहाँ ढ़ोढ़ी व कुएं का पानी पीते हैं ऐसे ढ़ोढ़ी एवं कुओं को एक सप्ताह के अंदर क्लोरिनयुक्त करने विकासखण्ड स्वास्थ्य अधिकारी व खण्ड कार्यक्रम प्रबंधक को प्राथमिकता से करने को कहा। बैठक में कलेक्टर ने कुपोषित एवं एनिमिया से पीड़ित बच्चों की जानकारी लेते हुए उन्हें पोषण पुनर्वास केन्द्र में भर्ती करने के निर्देश दिये। जिले में चल रहे चिरायु कार्यक्रम के अंतर्गत किये गये सर्जरी व लाभान्वित बच्चों की जानकारी ली तथा सभी बच्चों का बेहतर ईलाज एवं उपचार व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। परिवार कल्याण के अस्थाई साधन को बढ़ाने हेतु लोगों में जागरूकता लाने को कहा। कलेक्टर ने कोविड-19 टीकाकरण की स्थिति की जानकारी ली तथा कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए सभी अंतर्राज्यीय सीमा में कोविड जांच कराने के निर्देश दिये।

शासकीय डॉक्टरों की खुलेआम चल रही क्लीनिक

शासकीय डॉक्टरों की जिले में खुलेआम क्लीनिक संचालित हो रही है हॉस्पिटल में कम अपने क्लीनिक में ज्यादा समय व्यतीत करते हैं वही हॉस्पिटल के कई कर्मचारी अपने खुद का दवा दुकान का संचालन कर रहे हैं ऐसा नहीं है कि उक्त मामले में खंड चिकित्सा अधिकारी एवं मुख्य चिकित्सा अधिकारी को जानकारी नहीं है बावजूद इसके क्लीनिक संचालित हो रहे हैं यदि शासकीय सेवकों का इसी तरह अपनी मोटी कमाई के लिए समय व्यतीत करेंगे तो जिले में बेहतर स्वास्थ सुविधा की स्थिति में कैसे सुधार हो सकती है पहले तो स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार के लिए सभी हॉस्पिटलों में पदस्थ अधिकारियों एवं कर्मचारियों का बायोडाटा एकत्रित करने के बाद ही सफलता मिल सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *