चिठ्ठीबाजी में फंसा आक्सीजन प्लांट..प्रसाद बोले-प्लांट नहीं,बनाएंगे सिटी स्केन वार्ड

MADHESHWARबिलासपुर— पीडब्लूडी ने जिला अस्पताल में आक्सीजन प्लांट योजना पर दिए गये बयान को गंभीरता से लिया है। जिला अस्पताल प्रशासन को पत्र लिखकर बयान की निंदा की है। मधेश्वर प्रसाद ने कहा कि आक्सीजन प्लांट की स्थापना और वार्डो में पाइप लाईन बिछाने का काम हमारा नहीं है। जिला अस्पताल प्रबंधन ने मामले को लेकर ना तो पत्र लिखा ना ही जिक्र किया है। यह हमारा काम भी नहीं है। मेडिकल पाइप लाइन बिछाने का काम मेडिकल इंजीनियर के सुपर विजन में अधिकृत गैस एजेंसियां करती हैंं। पीडब्लूडी विभाग का इससे कोई लेना देना नहीं है।

डाउनलोड करें CGWALL News App और रहें हर खबर से अपडेट
https://play.google.com/store/apps/details?id=com.cgwall

                             पीडब्लूडी डिवीजन एक के ईई मधेश्वर प्रसाद ने जिला अस्पताल सिविल सर्जन वाजपेयी के बयान की निंंदा की है। यद्यपि डॉ.वाजपेयी ने आक्सीजन प्लांट पर बयान दिए जाने की बात को गलत बताया है। लेकिन पीडब्लूडी डिवीजन एक के ईई मधेश्वर प्रसाद ने आक्सीजन प्लांट मामले में डॉ.वाजपेयी के बयान को गंभीरता से लिया है। मधेश्वर प्रसाद ने कहा कि सिविल सर्जन वाजपेयी को खण्डन का बयान देना चाहिए। क्योंकि उनके बयान से विभाग की छवि प्रभावित हुई है।

                               मधेश्वर प्रसाद ने बताया कि हमने जिला अस्पताल प्रबंधन को पत्र लिखकर आक्सीजन प्लांट पर दिए गए बयान की निंंदा की है। लगता है कि आक्सीजन प्लांट निर्माण को लेकर या तो डॉ.वाजपेयी को जानकारी नहीं है या उन्होने जानबूझकर विवादित बयान दिया है। प्रसाद ने बताया कि हमने जिला अस्पताल प्रबंधन को पत्र लिखकर आक्सीजन प्लांट की वस्तुस्थित को स्पष्ट किया है। साथ ही बयान का खण्डन जारी करने को कहा है।

                                                                ईई प्रसाद ने बताया कि आज तक जिला अस्पताल प्रशासन से ऐसा कोई पत्र नहीं मिला है जिसमें आक्सीजन प्लांट की स्थापना और पाईप लाइन बिछाने की बात हो। प्रसाद के अनुसार आक्सीजन प्लांट की स्थापना और पाइप लाइन बिछाने का काम मेडिकल इंजीनियर के सुपरविजन में होता है। काम अधिकृत एजेंसी करती है। पीडब्लूडी से इसका कोई लेना देना नहीं है।

                            ईई प्रसाद ने बताया कि आज तक जिला अस्पताल ने निर्माण कार्य को एक भी पत्र नहीं भेजा है । जिसमें ट्रामा यूनिट,सोनोग्राफी के संबध बात हुई हो। जबकि पत्र पत्रिकाओं में सर्जन का बयान आया है कि पीडब्लूडी को पत्र से जानकारी दी गयी है। यदि ऐसा है तो जिला अस्पताल प्रबंधन पीडब्ल्डी को पत्र दिखाए।  जमा की गयी राशि का चालान भी भेजे।

सिटी स्केन और परिजन वार्ड निर्माण

                      मधेश्वर प्रसाद ने बताया कि ना तो शासन से और ना ही जिला अस्पताल प्रबंधन से आक्सीजन प्लांट बनाने और पाईप लाइन बिछाने का काम मिला है। सारी बातें हवा हवाई है। जिला अस्पताल में सी.एस.एस.डी सिटी स्केन और परिजन वार्ड बनाने का निर्देश जरूर मिला है। ताजा घटनाक्रम में हमने जिला अस्पताल प्रंबंधन को पत्र लिखा है कि मुख्यमंत्री अस्पताल विकास कोष से 40 लाख रूपए जमा कराया गया है। यह राशि निर्माण के लिए पर्याप्त नहीं है। यदि जिला अस्पताल प्रबंधन बची राशि 165.046 लाख रूपए समय पर जमा करता है तो सिटी स्केन और परिजन वार्ड का निर्माण किया जाएगा।

अस्पताल प्रबंध को खरी खरी

           ईई मधेश्वर प्रसाद ने बताया कि हमने जिला अस्पताल प्रबंधन, मुख्य और अधीक्षण अभियंता को पत्र लिखकर मामले की जानकारी दी है। जिला अस्पताल प्रबंधन को पत्र के माध्यम से बताया गया है कि बयानवाजी करने से पहले अभिलेखों और  प्रमाणों को खंगाले। गलत बयान से विभाग की गरिमा प्रभावित होती है। जबकि आक्सीजन प्लांट बनाने की बात पीडब्लूडी के सामने कभी आयी ही नहीं है। और आने का सवाल ही नहीं उठता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *