ज्योतिरादित्य सिंधिया को इस्पात मंत्रालय, स्मृति ईरानी को मिला अल्पसंख्यक मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार

दिल्ली।राष्ट्रपति ने केंद्रीय मंत्रिपरिषद से मुख्तार अब्बास नकवी, आरसीपी सिंह का इस्तीफा तत्काल प्रभाव से स्वीकार किया है. साथ ही स्मृति ईरानी को उनके मौजूदा पोर्टफोलियो के अलावा अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय का प्रभार सौंपा गया है और ज्योतिरादित्य सिंधिया को उनके मौजूदा पोर्टफोलियो के अलावा, इस्पात मंत्रालय का प्रभार सौंपा है. इससे पहले आज कैबिनेट बैठक के दौरान पीएम मोदी ने मुख्तार अब्बास नकवी और आरसीपी सिंह दोनों की उनके मंत्री कार्यकाल के दौरान उनके योगदान के लिए सराहना की. मुख्तार अब्बास नकवी कैबिनेट बैठक के बाद सीधे भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मिलने के लिए दीनदयाल उपाध्याय मार्ग स्थित भाजपा के राष्ट्रीय मुख्यालय गए थे. कैबिनेट की बैठक के बाद दोनों मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया था. नकवी और सिंह, दोनों का राज्यसभा सांसद के रूप में कार्यकाल गुरुवार को समाप्त हो रहा है.

दोनों मंत्रियों ने संवैधानिक दायित्व को पूरा करने के लिए अपना इस्तीफा सौंप दिया क्योंकि वे शुक्रवार से सांसद नहीं रहेंगे. भाजपा के वरिष्ठ नेता मुख्तार अब्बास नकवी राज्यसभा के उपनेता भी हैं. वहीं आरसीपी सिंह जद (यू) कोटे से मोदी कैबिनेट में मंत्री थे. नकवी के इस्तीफे के बाद अब केंद्र में कोई मुस्लिम मंत्री नहीं होगा और भाजपा के लगभग 400 संसद सदस्यों में से कोई मुस्लिम सांसद नहीं होगा.  

मुख्तार अब्बास नकवी 26 मई 2014 को नरेंद्र मोदी मंत्रालय में अल्पसंख्यक मामलों और संसदीय मामलों के राज्य मंत्री बने थे. 2016 में नजमा हेपतुल्ला के इस्तीफे के बाद, उन्हें अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार मिला था. उन्होंने 2019 में नरेंद्र मोदी के कैबिनेट में कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली और अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय के साथ बने रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *