Corona Vaccine: कब तक तैयार होगी कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन की वैक्सीन? मॉडर्ना ने कही ये बात

When Will The Vaccine Be Ready For Omicron: पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के नए वेरिएंट को लेकर चिंता का माहौल बना हुआ है. यह भी बहस चल रही है कि क्या पहले से मौजूद वैक्सीन ही कोरोना के नए वेरिएंट के खिलाफ भी काम करेगी या फिर इसके लिए नई वैक्सीन बनाने की जरूरत है. फार्मा कंपनी मॉडर्ना इंक ने कहा कि कोरोना वायरस के ओमिक्रोन स्ट्रेन से लड़ने के लिए एक नया टीका आवश्यक होने पर 2022 की शुरुआत तक तैयार हो सकता है. ऐसे में जब कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन को पुराने डेल्टा वेरिएंट से भी ज्यादा खतरनाक माना जा रहा है और इस बात पर चिंता जताई जा रही है कि संभावित तौर पर कोरोना की मौजूदा वैक्सीन इसके खिलाफ असर न करें, तब मॉडर्ना इंक का यह बयान दुनिया की चिंताओं को थोड़ा विराम देने वाला है कि वह जरूरत पड़ने पर 2022 की शुरुआत में इसके लिए भी वैक्सीन बना सकता है.

लगभग 14 देशों में पहुंचा नया वेरिएंट
बता दें कि ओमिक्रोन तेजी से पांव पसार रहा है. अभी तक यह लगभग 14 देशों में पहुंच चुका है. इससे पहले दुनिया कोरोना डेल्टा वेरिएंट से तबाही देख चुकी है. ऐसे में कई देशों ने पहले से ही खुद को अलर्ट करते हुए ओमिक्रोन से बचने के लिए पाबंदियां लागू कर दी हैं. सभी देश खास एहतियात बरत रहे हैं. वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रोन का पहला केस पिछले हफ्ते दक्षिण अफ्रीका में मिला था. दक्षिण अफ्रीका में 24 नवंबर को वायरस के ओमिक्रोन स्वरूप के मिलने की खबर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को दी गयी थी. इसके बाद WHO ने इसे ‘वेरिएंट ऑफ कंसर्न’ करार दिया था

WHO का क्या कहना है?
WHO ने कहा है कि प्रारंभिक साक्ष्य बताते हैं कि ओमिक्रोन वेरिएंट से उन लोगों को फिर से कोरोना होने का खतरा ज्यादा है, जो पहले संक्रमित हो चुके हैं. ऐसे लोगों को यह आसानी से संक्रमित कर सकता है. WHO ने कहा है कि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि डेल्टा और अन्य कोरोना वेरिएंट्स के मुकाबले ‘ओमिक्रोन’ ज्यादा संचरणीय यानी ट्रांसमिसिबल (एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में ज्यादा आसानी से फैलने वाला) है या नहीं. WHO ने कहा, ‘डब्ल्यूएचओ कोरोना की वैक्सीन पर इस वेरिएंट के संभावित प्रभाव को समझने के लिए तकनीकी भागीदारों के साथ काम कर रहा है.’ उसने कहा, ‘अभी यह स्पष्ट नहीं है कि ‘ओमिक्रोन’ ज्यादा गंभीर बीमारी का कारण बनता है या नहीं.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *