दान के बाद अच्छा महसूस होता है..आईबोक महासचिव ने कहा आदतों में है चुनौतियों का सामना करना..देंगे 5000 यूनिट ब्लड

बिलासपुर—पंजाब नैशनल बैंक 12 अप्रैल को 1124 वां स्थापना दिवस मना रहा है।बिलासपुर में रक्तदान शिविर और मोटर साइकल रैली के अलावा विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन कर जनहित संदेश भी देने का प्रयास कर रहा है। कार्यक्रम में बैंक के आलाधिकारी भी शिरकत कर रहे हैं। ऑल इंडिया पंजाब नैशनल बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन महासचिव ने दावा किया है कि देश मे एक साथ रक्तदान शिविर का आयोजन किया जा रहा है। पंजाब नैशनल बैंक सम्पूर्ण भारत के 76 सर्कल मे एक साथ रक्तदान शिविर से 5000 यूनिट ब्लड डोनेशन का कीर्तिमान बनाने का भरसक प्रयास करेंगे।

              ऑल इंडिया पंजाब नैशनल बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन महासचिव दिलीप साहा ने बताया कि पीएनबी अपना 124 वां जन्मदिन धूमधाम से मना रहा है। बैंक स्थापना पर प्रकाश डालते हुए दिलीप साह ने बताया कि राय मूलराज और लाला लाजपतराय के अलावा उनके कुछ मित्रो ने स्वदेशी पूंजी से स्वदेशी बैंक बनाने का विचार किया। 19 मई 1894 को पंजाब नैशनल बैंक की स्थापना हुई। विभिन्न क्षेत्रों के जानेमाने 7 लोगो ने स्वदेशी भावना से प्रेरित होकर बोर्ड ऑफ डायरेक्टरर्स से मिलकर 12 अप्रेल 1895 को पीएनबी का दरवाजा आम जनता के लिये खोला।

                       साहा ने बताया कि 123 वर्षो की यात्रा में वर्तमान में बैंक 10 मिलियन से ज्यादा ग्राहकों की सेवा कर रहा है। बैंक ने अपनी स्थापना से लेकर आज तक विभिन्न कठिनाईयों का सामना किया। देश विभाजन के बाद बैंक की दो तिहाई शाखाएं पाकिस्तान में रह गयी। 1990 में न्यू बैसल नार्म्स के बाद कठिनाईयों का सामना करते हुए बैंक मजबूती के साथ उभरा। एक बार फिर बैंक के सामने ‘नीरव मोदी स्कैम’ की चुनौती हैं।

             साहा ने बताया कि 27 सितम्बर 1964 को ऑल इंडिया पंजाब नैशनल बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन का जन्म हुआ। पिछले 53 सालों में  सितम्बर 2017 को 27000 सदस्यों साथ बैंकिग इंडस्ट्री में तीन लाख बीस हजार सदस्यों वाला आईबोक सबसे बड़ा घटक हैं। हमारा जिम्मेदार संगठन विभिन्न सामाजिक गतिविधियों में सक्रिय रहता है। अनाथालय, विद्यालयों, वृद्धाश्रम, दिव्यांगों, आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के बच्चो की शिक्षा जैसे कार्यक्रमो में समय समय पर सहयोग करता है। हमने विभिन्न स्थानों में रक्तदान, नेत्रदान, स्वास्थ्य शिविर लगाकर समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को हमेशा की तरह  ईमानदारी से निभाने का प्रयास किया है।

                वर्तमान कठिन दौर में सम्पूर्ण भारत के 76 सर्कल मे एकसाथ रक्तदान शिविर का आयोजन कर 5000 यूनिट ब्लड डोनेशन का किर्तिमान बनाने का लक्ष्य रखा है।

            साहा ने बताया कि कश्मीर से कन्याकुमारी और गुजरात से गोवाहाटी तक रेडक्रास, आईएमए, जिला अस्पताल, ब्लड बैंक के सहयोग से रक्त दान शिविर का आयोजन किया गया है। बिलासपुर में भी गौरवपथ स्थित पीएनबी मंडल कार्यालय में जिला अस्पताल ब्लड बैंक के साथ मेगारक्तदान शिविर का लगाया गया है। अम्बिकापुर में रक्तदान शिविर में ब्लड बैंक का सहयोग मिला है।देश समेत दोनों जिलों में मेगा रक्तदान शिविर सुबह 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक रहेगा।

                          आईबोक महासचिव साहा ने बताया कि 120 करोड़ की आबादी के देश मे 3 मिलियन ब्लड यूनिट की नितांत आवश्यकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार देश को प्रतिवर्ष 12 मिलियन आवश्यकता के बदले केवल 9 मिलियन ब्लड यूनिट ही प्राप्त होते है। स्वस्थ्य इंसान के शरीर मे 35 से 45 दिनों में फिर से रक्त निर्माण हो जाता हैं। गर्मियों में रक्त की आपूर्ति कम होती हैं। ऐसे समय पंजाब नैशनल बैंक के अधिकारी प्रत्येक केंद्र में रक्तदान करेंगे। हम आम जनता से भी सहयोग की उम्मीद करते हैं। साहा ने कहा कि रक्तदान जीवनदान हैं। एक बार कोशिश तो करे, आपको भी काफी अच्छा महसूस होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *