निगम चुनाव घमासानः पत्रकार समेत दल छोड़कर आए नेताओं की दावेदारी…मेयर पद के पुराने दावेदार भी लड़ेंगे चुनाव

बिलासपुर—-विधानसभा लोकसभा चुनाव के बाद निकाय चुनाव ने भी दस्तक दे दिया है। एक डे़ढ़ महीने बाद आदर्श आचार संहिता लग जाएगी। प्रत्याशियों के नाम का एलान कर दिया जाएगा। खासकर 13 नगर निगम बिलासपुर में आरक्षण निर्धारण के बाद चुनावी सरगर्मियां तेज हो गयी है। नगर पंचायतों और नगरपालिकाओं में भी चुनावी सुगबुगाहट देखने को मिल रहा है । बिलासपुर निगम क्षेत्र विस्तार के बाद मतदाताओं में समय से पहले संभावित प्रत्याशियों के नाम जानने की दिलचस्पी भी बढ़ गयी है। स्मार्ट सिटी बनने और सीमा विस्तार के बाद बिलासपुर नगर निगम का पहला चुनाव होगा। एक नगर पालिका,दो नगर पंचायत समेत 15 ग्राम पंचायतों के शामिल होने से बिलासपुर नगर निगम की ना केवल आबादी बढ़ी है…बल्कि क्षेत्र भी बढ़ गया है। पढ़िए सीजीवाल में निगम क्षेत्र के 1 से 70 वार्डों की चुनावी रिपोर्ट–सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

                             आज बेलतरा विधानसभा के प्रमुख वार्डों की बात होगी। क्षेत्र में चिल्हाटी,लिंगियाडीह,मोपका,राजकिशोर नगर,बहतराई,खमतराई,बिजौर को मिलाकर कई वार्ड बनाए गए हैं। आज वार्ड क्रमांक 51 से 55 में प्रमुख दावेदारो पर सीजी वाल प्रकाश डाल रहा है।

वार्ड क्रमांक–51—राजकिशोर नगर—सामान्य वर्ग

                             परिसीमन के बाद राजकिशोर नगर सामान्य वार्ड के रूप में सामने आया है। वार्ड में बजरंग चौक से शुरू होकर बाएं तरफ की आबादी क्षेत्र स्मृति वन के सामने वाला हिस्सा ओम पैलैस तक लिंगियाडीह और मोपका का क्षेत्र शामिल है। वार्ड में एसईसीएल कर्मचारी और अधिकारी का निवास है। वार्ड में ब्राम्हण मतदाताओं की अच्छी खासी संख्या है। यह वार्ड 50 और 52 से लगा हुआ है। पहली बार यहां निगम का चुनाव होगा। वार्ड भी सामान्य है। जाहिर सी बात है यहां दावेदारों की संख्या भी अधिक है।

                                      कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और खाद्य मंत्री अमरजीत भगत के बहुत ही नजदीकी अजय सिंह चाहते हैं उनका छोटा भाई चुनाव लड़े। विधानसभा चुनाव के समय अजय सिंह बेलतरा विधानसभा सीट से टिकट के प्रमुख दावेदारों में से एक थे। अजय सिंह के भाई चित्तु सिंह प्रदेश करणी सेना के पदाधिकारी हैं। खुद को सामाजिक सेवक मानते हैं। जिला महिला कांग्रेस की अध्यक्ष रह चुकी संध्या तिवारी भी चुनाव लड़ना चाहती हैं। टिकट की रेस में है। संध्या  तिवारी जनता कांग्रेस पार्टी छो़ड़कर दुबारा कांग्रेस में शामिल हुई हैं। विधानसभा चुनाव में प्रत्याशी के लिए पसीना बहाने वाले अशोक मानिकपुरी भी चुनाव लड़ना चाहते हैं। मानिकपुरी लिंगियाडी के पूर्व उप सरपंच रह चुके हैं। समाज में अच्छी पकड़ रखते हैं। लिंगियाडीह पंचायत के पंच अनुज मिश्रा भी टिकट के दावेदार हैं। अनुज ने पंचायत चुनाव के दौरान लिंगियाडीह में विवेक तिवारी से दो दो हाथ किया है।

                              भाजपा से बेलतरा मण्डल उपाध्यक्ष विवेक तिवारी चुनाव लड़ने की रेस में है। पेशे से पत्रकार विवेक तिवारी पहले भी पंचायत में दो बार पंच का चुनाव लड़ चुके हैं। संगठन नेताओं से अच्छा सम्पर्क है। मजबूती के साथ दावेदारी भी करते नजर आ रहे हैं। लिंगियाडीह पूर्व सरपंच शैलेश गोरख भी पार्टी से टिकट चाहते हैं। संभावना कि शैलेश वार्ड से दावा छोड़कर अन्य किसी वार्ड से चुनाव मैदान में उतरे। छात्र राजनीति से पार्टी राजनीति में पांव जमाने वाले ऋषभ भी टिकट की दावेदारी करेंगे।ऋषभ चतुर्वेदी भाजपा युवा मोर्चा में प्रशिक्षण प्रमुख के साथ आईटी विंग के प्रमुख हैं।

         इसके अलावा जय शंकर शुक्ला का  भी नाम मजबूती के साथ सामने आया है। जय शुक्ला वरिष्ठ पत्रकार के अनुज हैं। सामाजिक सेवा और राजनीति में अच्छी दखल रखते हैं। स्थानीय लोगों के भी पसंद हैं। उन्हें भाजपा के जमीनी नेताओं का समर्थन भी हासिल होते दिख रहा है। सौम्य चेहरा जय शुक्ला  को यदि टिकट मिल जाए तो आश्चर्य नहीं होगा। लिगीयाडीह पंचायत की पंच मंजुला सिंह, चुनाव लड़ना चाहती हैं।

वार्ड क्रमांक–52…रविन्द्र नाथ टैगौर नगर…सामान्य

                    वार्ड में लिंगियाडीह के कुछ हिस्सा को शामिल किया गया है। वार्ड का अधिक हिस्सा चांटीडीह से हैं। वार्ड क्षेत्र बजरंग चौक से शुरू होकर ऊर्जा पार्क,सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट होते हुए नदी किनारे अपोलो हॉस्पिटल के पीछे और सामने का हिस्सा, प्रभात  चौक सीपत रोड को छूते हुए राधिका विहार फेस टू बजरंग चौक में मिलता है।
                              लिंगियाडीह ग्राम पंचायत के सरपंच अनिल राठौर यद्यपि चुनाव लड़ने से इंकार कर रहे हैं। अन्दर खाने की माने तो अनिल राठौर कांग्रेस की टिकट से चुनाव लड़ सकते हैं। राठौर ने विधानसभा के लिए टिकट मांगा था..अब मेयर पर नजर है। लिंगियाडीह उप सरपंच कांग्रेस नेता दिलीप पाटिल भी चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर कर चुके हैं। पाटिल जिला कांग्रेस झुग्गी झोपड़ी प्रकोष्ठ के अध्यक्ष हैं। सर्वहारा वर्ग के मदताओं में दखल रखने का दावा करते हैं। लिंगियाडीह पूर्व सरपंच महेन्द्र गढ़ेवाल के भाई कांग्रेस नेता जितेन्द्र सिंह गढेवाल भी चुनाव लड़ाना चाहते हैं।
                                     भाजपा मण्डल उपाध्यक्ष रश्मि सिंह पार्टी से मजबूत टिकट दावेदार हैं। रश्मि सिंह का संबध दिनेश सिंह गुरूजी परिवार से है। प्रकाश गुप्ता को विश्वास है कि भाजपा टिकट देगी। रामेश्वर केसरी भी टिकट के प्रबल दावेदार हैं। उन्हें भी विश्वास है कि भाजपा से पार्षद चुनाव लड़ रहे हैं।
वार्ड क्रमांक…53…कमला नेहरू नगर…अनुसूचित जाति
                     परिसीमन के बाद ग्रामीण क्षेत्र को मिलाकर बनाया गया अनुसूचित बाहुल्य वार्ड है। वार्ड में सीपत रोड सूर्या चौक से पूर्व की तरफ रतन लस्सी और लिंगियाडीह को शामिल किया गया है। वार्ड की सीमा अमरैया चौक तक है।
                  भारतीय जनता पार्टी यहां से संदीप चौकसे को मैदान में उतार सकती है। यद्यपि संदीप चौकसे वार्ड क्रमांक 50 से दावेदार हैं। जातिगत रणनीति को ध्यान में रखते हुए चौकसे की दो जगह से दावेदारी बनती दिखाई दे रही है। चौकसे लिंगियाडीह ग्राम पंचायत सरपंच पूर्व प्रत्याशी माया चौकसे के पति हैं। क्षेत्र में संदीप चौकसे की अच्छी पहचान है। यदि संदीप वार्ड क्रमांक 50 से चुनाव लड़ते हैं तो महिला मोर्चा मंडल महामंत्री रेखा सूर्यवंशी या नायर के बीच किसी को भारतीय जनता पार्टी की टिकट मिल सकती है।
                         कांग्रेस से सबसे चर्चित नाम बजरंग बंजारे का है। बजरंग बंजारे वार्ड क्रमांक 40 के पार्षद रह चुके हैं। इस बार अपनी पत्नी को चुनाव लड़ाना चाहते हैं। फिलहाल बजरंग के साथ अभी कोई मजबूत नाम सामने नहीं आया है।
वार्ड क्रमांक—54 भक्त माता करमानगर—सामान्य
                            भक्त माता करमानगर वार्ड में चिंगराजपारा, चांटीडीह और अमरैया चौक क्षेत्र बस्ती को शामिल किया गया है।  क्षेत्र में यादव और साहू समाज मतदाताओं की बहुलता है। परिसीमन के बाद वार्ड में वार्ड क्रमांक 50 और 54 के हिस्सों को जोड़ा गया है।
                            भाजपा से वर्तमान वार्ड क्रमांक 40 के पार्षद जित्तु साहू चुनाव लड़ना चाहते हैं। यदि प्रदेश निकाय चुनाव प्रभारी ने आदेश दिया तो वर्तमान एल्डरमैन राजेन्द्र भण्डारी भी चुनाव लड़ने को तैयार हैं। राजेन्द्र भण्डारी क्षेत्र से 1999 में चुनाव लड़ चुके हैं।विक्रम सिंह की भी मजबूत दावेदारी हो सकती है। लेकिन इस समय उन्हें प्रत्याशी चयन की जिम्मेदारी दी गयी है। युवा मोर्चा जिला उपाध्यक्ष प्रणव शर्मा भी चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं।  पूर्व पार्षद भगवती साहू भी दावेदारी करेंगे। पवन कश्यप को भी बद्रीधर दीवान और विधायक रजनीश सिंह से वार्ड में सम्पर्क करने का आदेश मिला है।
               कांग्रेस से पुराने पार्षद संतोष साहू का नाम प्रमुख दावेदारों में शामिल है। वार्ड 46 के वर्तमान पार्षद भागीरथी यादव भी चुनाव लड़ना चाहते हैं। कमल कश्यप भी टिकट के दावेदार हैं।  यहां से एक बड़ा नाम विष्णु यादव का भी है। लेकिन उनकी नजर वार्ड 55 पर है।
वार्ड क्रमांक—55– माता परमेश्वरी नगर…अन्य पिछडा वर्ग
                             वार्ड में साइंस कालेज के आस पास समेत कुछ ग्रामीण क्षेत्रों को मिलाकर बनाया गया है। परमेश्वरी नगर वार्ड में विजयापुरम कुछ रामायण चौक का भी हिस्सा शामिल है।
                          भाजपा के वर्तमान पार्षद बंशी साहू ने टिकट का दावा किया है। बंशी साहू मेयर किशोर राय के एमआईसी सदस्य हैं। युवा मोर्चा मण्डल महामंत्री तेज तर्रार नेता गड़वा साहू भी चुनाव लड़ना चाहते हैं। गड़वा साहू को पिछली बार यादव समीकरण को ध्यान में रखते हुए समझौते के तहत पार्षद की दावेदारी से रोका गया गया था। युवा मोर्चा नेता यश साहू भी टिकट के दावेदार हैं।
                        कांग्रेस पार्टी यहां से अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य विष्णु यादव को चुनाव लड़ाएगी। जानकारी हो कि विष्णु यादव ने पिछली बार मेयर टिकट नहीं मिलने से पार्टी इस्तीफा दे दिया था। बाद में काफी मान मनौव्वल के बाद पार्टी में लौटाया गया। लेकिन तब तक बिलासपुर की जनता ने रामशरण यादव के खिलाफ फैसला कर लिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *