फर्जी पहचान पर सिम बेचने वाले गिरफ्तार..

TORAVA THANAबिलासपुर- पहचान पत्र का दुरूपयोग कर सिम को आसामाजिक तत्वो को बेचने बाले गिरोह का पुलिस ने भांडाफोड किया है। तोरवा पुलिस ने दो व्यापारियो को हिरासत में लिया है। पुलिस ने आरोपियों के पास से 72 नग स्टाम्प और एक पैड बरामद किया है। दोनो आरोपियो को न्यायालय पेश कर दिया गया है।

               दूसरो की आईडी से फार्म में फर्जी साईन से मोबाइल सिम को एक्टीवेट करने वाले गिरोह का पुलिस ने पर्दाफाश किया है। तोरवा पुलिस ने पहले भी आईजी पवन देव के निर्देश पर मोबाइल दुकानो में छापामार कार्रवाई के बाद कई लोगों को हिरासत में लिया था। तोरवा पुलिस ने एक बार फिर दो आरोपियों को हिरासत में लिया है।

                      पुलिस को सूचना मिली कि पुराना बस स्टैण्ड स्थित गजमोहनी सेल्स का आपरेटर सिम को एक्टीवेटेड़ करता है। थाना प्रभारी ने गजमोहनी सेल्स पुराना बस स्टैण्ड में दबिश देकर दुकान संचालक देवी प्रसाद अग्रवाल उर्फ सुमित और दिलीप चक्रदेव को हिरासत में लिया है। आरोपियों के पास से विभिन्न कम्पनियों की करीब 72 सील मिले हैं। सील का उपयोग  मोबाइल सिम एक्टीवेट करने में किया जाता था। ऐसे सिम को दुकानदार ज्यादा रुपये कमाने के साथ-साथ कम्पनी के दिये टारगेट को पूरा करता था।

                             दूसरो के दस्तावेजो का फायदा उठाकर एक्टीवेट सिम का उपयोग किसी वारदात को अंजाम देने के लिए किया जाता है। कई नक्सली घटना के बाद पुलिस जांच में यह बात सामने आयी है। वारदात को अंजाम देने के बाद पूछताछ में आरोपी साफ बच निकलते हैं। पुलिस..मामले को गंभीरता से लेते हुए फर्जी तरीके से सिम एक्टीवेट कराने वाले दुकानदारो की धरपकड कर रही है।

                       डकैती और लूट के अधिकांश मामलो में ऐसे नम्बर सामने आये है जिसमें दूसरो की आईडी का इस्तेमाल किया गया है। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस का शिकंजा अब ऐसे दुकानदारो पर कसता जा रहा है जो दूसरो की आईडी से किसी को भी नम्बर देते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *