11 कौशल केंद्र खोलेगा आईसेक्ट-शैलेष

durg_kvk_filekvk2दुर्ग। भारत ऐसा देश है, जहां लोहार का बेटा कुशल लोहार, सोनार का बेटा पारखी सोनार, किसान का बेटा मौसम देकर फसल लेना वाला कुशल किसान, कुम्हार का बेटा दक्ष मुर्तिकार और ब्राम्हण का बेटा फूल-दुबे देते प्रकांड विद्वांत पंडित बना जाता है, लेकिन हम लोगों ने इस प्राकृति की व्यवस्था को तोड़ा है।इसके बाद युवाओं को डिग्री के लिए तेज दौड़ाया गया,इसलिए आज हमें कौशल विकास की जरूरत पड़ रही है।इस अभियान को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नेतृत्व में शुरू किया गया है, वह दिन दूर नहीं जब हम पूरी दुनिया में भारत से कौशल में दक्ष युवाओं को भेजेंगे।जल्द ही भारत दुनिया का सबसे बड़ा हुनर का केंद्र बनेगा।

                                                  ये बातें प्रदेश के उच्च शिक्ष मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय ने कहीं।वे आईसेक्ट द्वारा संचालित के प्रधानमंत्री कौशल विकास केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मुख्य अतिथि की आसंदी से बोल रहे थे। श्री पाण्डेय ने कहा कि जन्म लेने वाले बच्चे के साथ भगवान एक हुनर जरूर देता है ताकि वह उस हुनर के सहारे जीवन यापन कर सके। देश व प्रदेश की सरकार ने युवाओं के उसी हुनर को शरीर से बाहर निकालने की जिम्मेदारी उठाई है। श्री पाण्डेय ने बताया इसके लिए 2017 में देश के हर जिले में एक कौशल विकास केंद्र खोला जाना तय किया गया है। यह वहां के कलेक्टर की जिम्मेदारी होगी कि यहिद कोई युवा कौशल में दक्ष होना चाहता है तो कलेक्टर उसकी व्यवस्था करें। श्री पाण्डेय ने कहा कि हर्ष की बात है कि भिलाई में तीसरे नंबर में यह केंद्र स्थापित किया गया है। इसके माध्यम से हम जल्द ही यहां के युवाओं को कौशल में दक्ष करेंगें और गुणवत्तापूर्व दक्षता से उसे रोजगार दिला सकेंगे।

11 कौशल केंद्र खोलेगा आईसेक्ट-शैलेष
kvk1इस अवसर डाॅ.सी.वी.रामन् विश्वविद्यालय के कुलसचिव शैलेष पाण्डेय ने कुछ दिन पूर्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कानपुर से प्रधानमंत्री कौशल विकास केंद्र का आॅनलाइन शुभारंभ किया था। इसमें छत्तीसगढ़ के मुंगेली और रायपुर दो जिले शामिल किए गए हैं। इसी क्रम में आज दुर्ग जिले के कौशल विकास सेंटर की शुरूआत की जा रही है। सरकार ने आईसेक्ट को प्रदेश में 11 कौशल विकास केंद्र खोलने की अनुमति दी है। इस योजना से प्रदेश के युवाओं को कौशल विकास में दक्ष किया जाएगा, ताकि युवाओं को हाथ में रोजगार दिया जा सके। सरकार ने स्किल को बढ़ावा और युवाओं को रोजगार देने के लिए अलग से ही कौशल विकास मंत्रालय की स्थापना की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का सपना है कि अधिक से अधिक छात्र-छात्रों को स्किल्ड किया जाये। इस सपने का पूरा करने के लिए स्किल डेवलेपमेंट के माध्यम से अलग अलग ट्रेंड में युवाओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। श्री पाण्डेय ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कौशल विकास,स्किल इंडिया और मेन इन इंडिया जैसे महत्वाकांक्षी योजनाओं की कल्पना की है, और इस कल्पना को सार्थक करने के लिए कदम भी उठाए हैं। श्री पाण्डेय ने बताया कि सीवीआरयू पं.दीनदयाल कौशल केंद्र के माध्यम से विश्वविद्यालय व महाविद्यालय में पढ़ने वाले 5 लाख से अधिक विद्यार्थियों को कौशल में दक्ष कर रहा है। हम प्रदेश के हर युवा को कौशल विकास में दक्ष करेंगे।

शोध के क्षेत्र में देश का बड़ा केद्र बना सीवीआरयू-डाॅ. शिवबरण
इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थ्ति निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग के अध्यक्ष डाॅ. शिवबवरण शुक्ला ने अपने संबोधन में कहा कि डाॅ.सी.वी.रामन् विश्वविद्यालय शोध के क्षेत्र में काम करने वाला देश का सबसे बड़ा केेंद्र बना है। इस सूची में देश के 15 विश्वविद्यालय को शामिल किया गया,जिससे डाॅ.सी.वी.रामन् विविे अग्रणी है। उन्होंने कहा कि कौशल को उत्पन्नं नहीं किया जाता है, वह तो शरीर के भीतर ही होता है।

भारत में 7 प्रतिशत की युवा कौशल में होते है दक्ष-सिद्वार्थ
इस अवसर पर आईसेक्ट के डायरेक्ट सिद्वार्थ ने बताया कि वह दौर चला गया जब शिक्षा व रोजगार अलग-अलग हुआ करते थे। शिक्षा पूरी होने के कई साल बाद भी रोजगार की संभावना दिखाई नहीं पड़ती थी। विश्व के लगभग सभी देशों में विद्यार्थियों को छोटी कक्षा से ही कौशल में दक्ष किया जाता है। इसमें यूरोप में इसका प्रतिशत 80 है यानी की 80 प्रतिशत विद्यार्थी सामान्य पढ़ाई के साथ कौशल के कोर्स करते हैं। इसी तरह चाईना में 60 प्रतिशत विद्यार्थी कोर्स की पढ़ाई के साथ कौशल में दक्ष हो जाते है। चिंता इस बात की है कि भारत में इसका प्रतिशत सिर्फ 7 है। यानी कि 7 प्रतिशत युवा ही किसी हुनर में दक्ष पाते हैं। आगे चलकर उन्हें रोजगार नहीं मिलता। इस चिंता को ध्यान में रखते हुए ही सरकार ने देश के युवाओं को दक्ष करने के लिए प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना शुरू की है। 2017 तक देश के हर जिले में कौशल विकास केंद्र खोला जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *