सूर्योपासना के महापर्व छठ की तैयारियां जोरो पर,विभिन्न संगठनों ने झोंकी ताकत

रामानुजगंज(पृथ्वीलाल केशरी)।सूर्योपासना के महापर्व छठ की तैयारियां जोरशोर से चल रही है। नगर के राममंदिर कन्हर नदी तट सहित अन्य घाटो में सूर्य देव को अर्ध्य देने व्यापक तैयारी की जा रही है। छठ घाटों की साफ-सफाई लगभग पूरी कर ली गई है। रंग रोगन कर छठ घाटों को दुल्हन की तरह सजाने का काम जोरशोर से चल रहा है। छठ घाट व घाट की ओर जाने वाले मार्गों में बड़े-बड़े आकर्षक द्वार लगाए जा रहे हैं। नगर का माहौल छठमय हो गया है। पुलिस व प्रशासन की ओर से भी इन छठ घाटों में आवश्यक व्यवस्था किए जाने तैयारी चल रही है।

पौराणिक मान्यता के अनुसार परिवार और समाज की खुशहाली, समृद्घि की कामना का महापर्व छठ नगर के लिए उत्सव बन गया है। बिहार और उत्तरप्रदेश का यह लोकपर्व रामानुजगंज की धरा पर बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता हैं। नगर के सभी लोगों का छठ पर्व पर पूरा सहयोग रहता हैं।

प्राकृतिक रूप से भव्य सुंदरता के लिए कन्हर नदी में बहता हुआ जल अर्ध्य देने व स्नान करने के लिए मिल जाता है। हर वर्ष श्रद्घालुओं की उमड़ रही भीड़ों में इजाफा होते चला जा रहा है। श्रद्घालुओं के लिए और बेहतर इंतजाम व व्यवस्था की जा रही है। सूर्योपासना का महापर्व छठ का उत्सव शुरू हो चुका है।

11 नवंबर 2018 दिन रविवार सेे नहाय खाय,सोमवार को खीर भोजन व घाट बंधान का धार्मिक अनुष्ठान होगा। मंगलवार को श्रद्धालुओं का सैलाब छठ घाटों में उमड़ेगा। इस दिन अस्तांचल सूर्य को अर्ध्य दिया जाएगा।

बुधवार को सुबह उदयगामी सूर्य को अर्ध्य देकर व्रती श्रद्घालुओं द्वारा व्रत का पारण किया जाएगा। पर्व को लेकर नगर में भक्ति व उल्लास का वातावरण निर्मित हो गया है। छठी मैया की गीतों से नगर गुंजायमान होने लगा है। घर-घर पकवान व प्रसाद बनाए जा रहे हैं। छठ पूजन के लिए जरूरी सामग्री व मौसमी फल, कंद मूल व बांस के सामान बिकने लगे हैं, बाजार में छठ की तैयारी के मद्देनजर चहल पहल शुरू हो गई है।

इस पर्व में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखा जाता हैं, इसलिए घर में प्रसाद भी महिलाओं द्वारा खुद से चकरी या जाते में पीस कर लाल गेहूं के आटे से बनाया जाता है। प्रसाद आम की लकड़ी जलाकर तैयार की जाती है।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...