निकाय चुनावः कास्ट फैक्टर और सीट का खेल…नेताओं का बयान और नाराज जनता

बिलासपुर— जिले की नगर पंचायतों के प्रत्यशियों का एलान भाजपा ने कर दिया है। कांग्रेस भी सोमवार को देर शाम प्रत्याशियों का एलान कर देगी। बिलासपुर नगर निगम प्रत्याशियों का नाम भाजपा तीन दिसम्बर शाम को करेगी। कांग्रेस पार्टी 4 दिसम्बर को नाम का एलान करेगी। बिलासपुर में दोनों ही पार्टियों को पसीना बहाना पड़ रहा है। रविवार की शाम बेलतरा में कुल 17 वार्डों के सभी प्रत्याशियों की वार्डवार बैठक हुई। स्थानीय विधायक ने स्पष्ट कहा कि यदि आपस में मिलकर एक नाम पर फैसला नहीं करने पर ही संगठन एक नाम का एलान करेगा। इधर कांग्रेस में जमकर माथा पच्ची हो रही है। संगठन के पदाधिकारी भी चुनाव लड़ना चाहते हैं। लेकिन स्थानीय प्रत्याशी इस बात को लेकर तैयार नहीं है कि हमारी तैयार जमीन पर दुसरे वार्ड के प्रत्याशी या बड़े नेता चुनाव लड़ें। जिनका क्षेत्र से कोई लेना देना नहीं है।

                         भारतीय जनता पार्टी ने जिले की सभी नगर पंचायतों के प्रत्याशियों के नाम का एलान कर दिया है। कांग्रेस की सूची आज कल में जल्द ही जारी होगी। बावजूद इसके इस समय सबकी नजर बिलासपुर नगर निगम प्रत्याशियों पर टिकी हुई है। जानकारी के अनुसार भारतीय जनता पार्टी बिलासपुर नगर निगम प्रत्याशियों के नाम का एलान तीन दिसम्बर की शाम या चार दिसम्बर को करेगी। जानकारी मिल रही है कि भाजपा अपने प्रत्याशियों के नाम का एलान कांग्रेस सूची जारी होने के बाद ही करेगी।

भाजपा और कांग्रेस संगठन में समझौते का प्रयास

                  जानकारी के अनुसार दोनों ही दलों में निगम चुनाव लड़ने की होड़ है। वार्डों में प्रत्याशियों की भरमार है। बताया जा रहा है कि रविवार शाम को निगम की 17 सीटों को लेकर स्थानीय विधायक ने सर्वसम्मति से एक नाम देने को कहा। साथ ही  स्थानीय विधायक और संगठन ने निर्देश दिया कि रायशुमारी नहीं होने पर संगठन किसी एक नाम का एलान कर देगा। ऐसी सूरत में किसी की अनुशासनहीनता को बर्दास्त नहीं किया जाएगा। जानकारी यह भी है कि बहुत से वार्डों में वार्ड प्रत्याशी सर्वसम्मति से नाम नहीं तय कर पाए हैं।

 सामान्य सीट बनी झंझट की वजह

                 नगर के 70 वार्ड सामान्य के लिए अनारक्षित है। कई वार्ड तो ऐसे हैं जो अब से पहले अनारक्षित हुआ करते थे। आरक्षण निर्धारण के बाद वार्ड सामान्य या तो अनारक्षित महिलाओं के खाते में गया है। कांग्रेस और भाजपा दोनों ही दलों में सामान्य सीट को लेकर जंग है। वार्ड में सामान्य प्रत्याशियों के बीच से लगातार आवाज आ रही है कि सामान्य वार्ड से सामान्य वर्ग के प्रत्य़ाशियों को ही टिकट दिया जाए। कांग्रेस और भाजपा दोनोे ही दलों में वार्ड 31, 34, 36, 39, 41, 51, 60, 69 के मतदाताओं में इस बात को लेकर आक्रोश देखने को मिला है यहां से सामान्य वर्ग के प्रत्याशी को मैदान में उतारा जाए। प्रत्याशी भी इस बात को दबी जुबान में कहते हैं कि यदि अब टिकट नहीं मिला तो क्या बुढ़ापे में मिलेगा।

                                        एक तरफ जहां कांग्रेस कोर कमेटी के लिए वार्ड क्रमांक 33 सिरदर्द साबित होते दिखाई दे रहा है तो वहीं 69 में रामाराव की सक्रियता भी सिर चढ़कर भाजपा खेमें हलचल मचा रही है। दोनों ही वार्ड सामान्य है। वार्ड 33 से वर्तमान में शैलेन्द्र जायसवाल पार्षद है। लेकिन यहां से जिला कांग्रेस शहर अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर,विजय पाण्डेय चुनाव लड़ना चाहते हैं। इसी तरह वार्ड क्रमांक 69 की है। वार्ड सामान्य है…लेकिन भाजपा ने यहां से प्रकाश यादव ऊर्फ बन्टी को टिकट देने का फैसला किया है। लेकिन प्रत्याशी समेत उनके समर्थक और जनता का मानना है कि यहां से सामान्य वर्ग से हटकर अन्य प्रत्याशी को मैदान में उतारने का अर्थ प्रत्याशी की हार होगी।ऊपर से  सामान्य वर्गों में कांग्रेस नेत्री की बयानवाजी के बाद बेशक आक्रोश नहीं दिखाई दे रहा है लेकिन गुस्सा अब भी बरकरार है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *