मेरा बिलासपुर

आठवें दिन भी अमर लौटे खाली..कहीं नही मिला विकास…पूर्व मंत्री ने कहा..मंत्री पढ़ रहे कसीदे..यहां हर माह हो रही 26 मौत

बिलासपुर जिले में हर माह यातायात दुर्घनटना में हो रही 26 लोगों की मौत

विकास को खोजने 8 वे दिन पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल भाजपा कार्यकर्ताओं और स्थानीय लोगों के साथ शहीद भगत सिंह नगर,नामदेव नगर और ओम नगर  का भ्रमण किया। अभियान के दौरान अमर अग्रवाल ने जन समस्या शिविर को संबोधित भी किया। इस दौरान अमर अग्रवाल ने प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर निशाना साधा। भाजपा नेता ने कहा सरकार को जनहित से कोई लेना देना नही है। यातायात व्यवस्था पूरी तरह चौपट हो गयी है ।बिलासपुर में प्रत्येक महीने करीब 26 लोगों की मौत दुर्घटना के वजह से होती है। सड़कों की हालत बद से बदतर स्थिति में है। और बताया जा रहा है कि तेजी से चहुमुखी विकास हो रहा है। मै आधा से अधिक शहर घूम चुका है। विकास ना सड़क पर मिला..ना नाली और ना ही जिले के कार्यालयों में ही विकास का कोई अता पता नहीं है।
कसीदे पढ़ रहे मंत्री..
               पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल शहीद भगत सिंह वार्ड में आयोजित जन समस्या शिविर में वार्ड वासियों से संवाद किया। लोगों को बताया कि सरकार घोषणाबाजी की योजनाएं बनाती है। प्रदेश के परिवहन मंत्री ने राज्य की चकाचक सड़कों की कसीदे पढ़ रहे हैं। मीडिया  के अनुसार केवल बिलासपुर जिले में हर माह 26 लोग यातायात दुर्घटना में काल के गाल में समा रहे हैं। 2022 में प्रदेश में सड़क दुर्घटना में मरने वालों की संख्या से 400 से  ज्यादा है।  दुर्घटना के मामले 1300 से ज्यादा है ,क्या सरकार के पास इसका कोई जवाब है?
         अमर ने कहा कि नगर निगम बिलासपुर के पास शव वाहन खरीदने तक के लिए पैसे नहीं है।  लेकिन अफसरों की चमचमाती कारें स्मार्ट सिटी के फंड से खरीदी जा रही है। इससे ज्यादा शर्म की बात क्या होगी। स्मार्ट सिटी परियोजना अंतर्गत लगभग डेढ़ सौ करोड़ रुपए स्मार्ट ट्रैफिक प्रबंधन के लिए खर्च किये जा रहे है। 450 से ज्यादा  जगहों पर सीसीटीवी  कैमरों से ट्रैफिक रूल पालन,पूरे शहर की निगरानी के साथ ई चालान की  व्यवस्था, दुर्घटना होने पर तत्काल मदद आरंभ की जानी थी। चार साल बाद भी योजना के तहत तारबाहर थाना परिसर मे निर्माणाधीन  ITMS का कमांड एंड कंट्रोल सेंटर अधूरा है।
प्रतिकूल मौसम में काम सक्रिय नाइट विजन कैमरा वाहनों की पहचान के लिए लगाए जाने वाले कैमरे पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम का काम भी पूरा नहीं हुआ। लगभग 11 करोड़ की लागत से पुराना बस स्टैंड क्षेत्र में मल्टीलेवल ऑटोमेटेड शटल टाइप पार्किंग का केवल गड्ढा खोदने का कार्य हुआ है। ,नेहरू चौक अन्य तीन जगहों पर मल्टीलेवल वाहन पार्किंग की सुविधा अधूरी है।
कब पूरी होंगी अधूरी योनजाएं
             अमर अग्रवाल ने कहा भाजपा के समय नियोजित शहरी विकास में ट्रैफिक मैनेजमेंट को प्राथमिकता देते हुए काम शुरू किया गया।  लेकिन चार सालों में सारे  लंबित है। कब  पूरे होंगे इसके बारे में कोई डेड लाइन भी तय नही है। ऐसे में आए दिन सड़क दुर्घटनाओं की संख्या में वृद्धि बढ़ते शहरीकरण का बहाना किया जा सकता है।, लेकिन जन धन हानि के लिए सरकार की बेरुखी और और प्रशासनिक अमले की अकर्मण्यता सीधेतौर पर जिम्मेवार है। 
नई तो दूर..पुरानी योजना भी अधूरी
  अमर अग्रवाल ने कहा स्मार्ट सिटी बिलासपुर में स्मार्ट ट्रैफिक सिस्टम लागू करने के लिए स्वागत गेटो, अनेको जगह लगे हुए अवैध होर्डिंग, विभिन्न इलाकों में बने आईलैंड विशेषकर देवकीनंदन चौक, सिटी कोतवाली चौक, गांधी चौक,अग्रसेन चौक, शिव टाकीज चौक, तारबहार चौक, सीपत चौक पर यातायात दबाव वैकल्पिक उपायों की जरूरत है। कांग्रेस की सरकार नई योजनाएं लाना तो दूर पुराने कार्यों को भी पूरा नहीं करा पा रही है।  जिसका खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है।

फिर शुरू हुआ राखड़ डैम का विरोध...ब्लाक कांग्रेस नेताओं ने कहा...प्रबंधन को करना पड़ेगा उग्र आंदोलन का सामना
Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS