चौथे दिन के बेमुद्दत हड़ताल में सहायक विकास विस्तार अधिकारी संघ भी जुड़ा

राजनांदगांव। सरकारी कर्मचारियों का अनिश्चितकालीन हड़ताल लगातार चौथे दिन भी जारी रहा। 22 अगस्त से दफ्तर छोडक़र आंदोलनरत सरकारी कर्मचारियों की ओर से अपनी मांगों को लेकर आवाज उठाई जा रही है। जिला मुख्यालय के अलावा ब्लॉक मुख्यालयों में भी कर्मी हड़ताल में डटे हुए हैं। हालांकि कुछ ब्लॉकों में सरकारी कर्मचारियों में आंदोलन में शामिल होने को लेकर विरोधाभास की भी स्थिति बन गई है।

छुरिया क्षेत्र में शिक्षकों ने हड़ताल में शामिल होने से इन्कार कर दिया है। वहीं मोहला ब्लॉक में भी शिक्षकों ने आंदोलन में भागीदार बनने से दूरी बना ली है। हड़ताल में शामिल होने को लेकर कर्मचारी संगठनों में बिखराव की स्थिति भी बन रही है। महंगाई भत्ता व गृहभाड़ा को लेकर अधिकारी-कर्मचारी फेडरेशन के बैनर तले हड़ताल को लेकर कुछ संगठन एक नजर आ रहे हैं। जबकि कुछ संगठन ने हड़ताल को लेकर  स्पष्ट रूप से किनारा कर लिया है। जिसके चलते छत्तीसगढ़ शिक्षक एसोसिएशन के कई सदस्यों ने इस्तीफा भी दे दिया है।बताया जा रहा है कि आने वाले समय में कुछ और कर्मचारी संगठन की सदस्यता छोड़ सकते हैं। हर हिस्से में हड़ताल का अब आंशिक असर दिखने लगा है। इस बीच हड़ताल के पहले दौर में ही संगठनों में एकता को लेकर भ्रामक परिस्थिति भी बन गई है।

उधर सहायक विस्तार अधिकारी संघ ने भी हड़ताल को समर्थन दिया है। साथ ही स्वास्थ्य विभाग की एमसीएच की नर्स भी हड़ताल में कूद गई है। जिसके चलते हड़ताल को मजबूती मिली है। जिले में अनिश्चितकालीन हड़ताल में चले जाने से फरियादियों की मुसीबतें खड़ी हो गई है। अनिश्चितकालीन हड़ताल की वजह से सरकारी कार्यालयों में सन्नाटा पसरा हुआ है। ऐसे में बाहर से आने वाले फरियादियों को खाली हाथ लौटना पड़ रहा है। कलम बंद-काम बंद केनारे के साथ अपनी मांगों को लेकर यह आंदोलन 25 अगस्त को भी जारी रहा। प्रदर्शन में विभिन्न विभागों के अधिकारी-कर्मचारी शामिल होकर अपनी लंबित मांगों के लिए नारेबाजी की। प्रदर्शन में आरएमए एसोसिएशन, छत्तीसगढ़ सहायक पशु चिकित्सा क्षेत्र के अधिकारी संघ, राजस्व निरीक्षक संघ के पदाधिकारियों ने अनिश्चितकालीन हड़ताल में समर्थन दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *