CG NEWS:डॉ. महंत भी हो सकते हैं नेता प्रतिपक्ष पद के दावेदार…. ?

Chief Editor
4 Min Read

CG NEWS:रायपुर । छत्तीसगढ़ विधानसभा के चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद अब यह सवाल भी उठ रहा है कि प्रदेश में नेता प्रतिपक्ष की जिम्मेदारी किसे सौंपी जाएगी। एक तरफ जहां भूपेश बघेल का नाम स्वाभाविक दावेदार के रूप में लिया जा रहा है ।वहीं बदले हुए हालात में माना जा रहा है कि विधानसभा स्पीकर डॉ. चरण दास महंत भी इस पद के दावेदार हो सकते हैं। अभी इस तरह के संकेत नहीं मिले हैं कि कांग्रेस आला कमान नेता प्रतिपक्ष पद को लेकर कब तक फैसला करेगा। लेकिन इस पद के नाम पर पार्टी में कसमकश की स्थिति के संकेत जरूर मिलने लगे हैं।

2018 के चुनाव में कांग्रेस ने 68 सीट जीतकर सरकार बनाई थी। उस समय कांग्रेस में मुख्यमंत्री पद के लिए तत्कालीन प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल सहित टी.एस. सिंहदेव, ताम्रध्वज साहू और डॉ. चरण दास महंत के नाम सामने आ रहे थे। आखिरी दौर में सीएम के पद पर भूपेश बघेल की ताजपोशी हुई। उनके मंत्रिमंडल में टी.एस. सिंहदेव और ताम्रध्वज साहू शामिल किए गए। जबकि डॉ. चरण दास महंत को विधानसभा का स्पीकर बनाया गया। इसके बाद से  माना जा रहा था कि पार्टी में सब कुछ ठीक चल रहा है ।लेकिन चुनाव आते-आते एक बार फिर सामूहिक नेतृत्व की बात आई। चुनाव के ठीक पहले पहले टी.एस. सिंहदेव को डिप्टी सीएम बनाया गया।  इसके पहले तम्रध्वज साहू को केंद्रीय स्तर पर अहमियत दी गई। इधर डॉ. चरण दास महंत को चुनाव अभियान में अहम जिम्मेदारी दी गई।

चुनाव के नतीजे सामने आए तो कांग्रेस 34 सीट पर सिमट गई और सरकार हाथ से चली गई । चुनाव नतीज़ों के साथ ही कांग्रेस में समीकरण पूरी तरह से बदल गए हैं।कई मंत्रियों और बड़े नेताओं के चुनाव हारने के बाद 2018 के मुक़ाबले तस्वीर बदल गई है। अब कांग्रेस को छत्तीसगढ़ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष का नाम तय करना है। खबर मिल रही है कि 8 दिसंबर को दिल्ली में चुनाव की समीक्षा के दौरान इस मुद्दे पर भी चर्चाेएं हुईं है। वैसे नेता प्रतिपक्ष पद के लिए भूपेश बघेल को स्वाभाविक दावेदार माना जा रहा है। उनकी अगुवाई में चुनाव हुए और उन्हें ही सरकार का चेहरा माना गया था। भूपेश बघेल प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष भी रह चुके हैं । प्रदेश में सरकार चलाते हुए उन्होंने केंद्रीय नेतृत्व का भरोसा भी जीत लिया था। इस लिहाज से उनके नाम पर सहमति बन सकती है।

इधर टी.एस. सिंहदेव और ताम्रध्वज साहू चुनाव हार चुके हैं। ऐसे में  नेता प्रतिपक्ष के लिए दो प्रमुख नेताओं की चुनौती समाप्त हो चुकी है। लेकिन डॉ. चरण दास महंत सक्ती विधानसभा सीट से चुनाव जीतकर आए हैं। उनके नाम के साथ यह खासियत भी जुड़ी है कि जांजगीर – सक्ती इलाके में इस बार के चुनाव में सभी 6 सीटे कांग्रेस ने जीती है। अकलतरा, जांजगीर, सक्ती, जैजैपुर, चंद्रपुर और पामगढ़ में कांग्रेस की जीत को लेकर कांग्रेस के अंदर डॉ. महंत का वजन बढ़ा है  । ऐसे में उन्हें नेता प्रतिपक्ष पद का दावेदार माना जा रहा है। डॉ. महंत अविभाजित मध्य प्रदेश के समय से सक्रिय कांग्रेस नेताओं में शामिल रहे हैं। मध्य प्रदेश में भी उन्होंने मंत्री पद की जिम्मेदारी संभाली थी। छत्तीसगढ़ राज्य बनने क के बाद डॉ. महंत प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भी रहे। केंद्र सरकार में मंत्री भी बनाए गए थे। दिल्ली में भी उनकी लाबिंग मानी जाती है। ऐसे में उनके नाम पर भी विचार हो सकता है। लेकिन कांग्रेस की ओर से अंतिम रूप से क्या फैसला होगा यह सामने आना अभी बाकी है।

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close