बाल दिवसःजब मासूम ग्रामीण बच्चों की बातें सुन.भर आई अतिथि की आंख..मनहर ने कहा हौसलों से होती है सपनों की उड़ान.आप पढ़ें.आपके साथ कका भूपेश का आशीर्वाद

बिलासपुर—बाल दिवस पर देश प्रदेश समेत बिलासपुर के बच्चों ने भी रंगारंग कार्यक्रमों का आयोजन कर अपने प्रिय चाचा नेहरू को याद किया। अपने अपने क्षेत्र के ख्यातिनाम शख्सियतों को अपने बीच पाकर बच्चों ने कई गुना उत्साह के साथ अपने प्यारे चाचा का जन्मदिन मनाया। स्कूलों में भाषण और निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। विजेताओं को ट्राफी और प्रमाण पत्र देकर अतिथियों ने बच्चों को सम्मानित किया।

  1.                      इसी क्रम में कांग्रेस के युवा नेता जयंत मनहर ने भी मस्तूरी में अलग स्कूलों में आयोजित कार्यक्रमों में बच्चों के बीच बच्चा बनकर भाग लिया। इस दौरान मासूम ग्रामीण बच्चों की बातें सुनकर उनकी आंखे भर आयी। मनहर ने कहा..प्रतिभावान बच्चों की पढ़ाई में कोई दिक्कत नहीं आएगी। यदि आपको अपने सपनों को हासिल करना है..हौंसला बुलन्द रखना होगा। फिर हम ही नहीं..प्रदेश का मुखिया भूपेश बघेल और उनकी सरकार आपके साथ है।

बच्चों ने किया सपनों को साझा

               मस्तूरी में अलग अलग स्कूलों में आयोजित बाल दिवस कार्यक्रम में कांग्रेस के युवा नेता जयंत मनहर ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत किया। इस दौरान मनहर ने गरीब और प्रतिभावान बच्चों के साथ जीवन्त संवाद किया। बच्चों ने मुख्य अतिथि के साथ अपनी पारिवारिक स्थितियों का ना केवल साझा किया। बल्कि अपने सपनों के बारे में भी बताया।

भारत के रतन बनो

                 जयंत मनहर ने जोंधरा स्थित टीआरके उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय के बच्चों के बीच पहुंच..चाचा नेहरू के जीवन पर प्रकाश डाला। पंडित नेहरू के सपनों और बच्चों के प्रति लगाव का जिक्र किया। मनहर ने बताया कि  चाचा नेहरू ने बच्चों को भारत का गुलाब का फूल कहा है। उन्हें बच्चों से बहुत प्रेम था। क्योंकि उन्हें बच्चों की मासूमियत में सारा हिन्दुस्तान दिखाई देता था। इस दौरान बच्चों से मनहर ने संवाद किया। कई प्रतिभावान बच्चों ने अपनी माली स्थिति का भी जिक्र किया। हालात को सुन मनहर की आंखें भर आयी। इस दौरान बच्चों का हौंसला बढ़ाते हुए देश के राष्ट्रपति मिसाइलमैन अब्दुल कलाम के जीवन पर प्रकाश डाला। उन्होने बताया कि किस तरह अब्दुल कलाम के हौसलों के सामने गरीबी को झुकना पड़ा है। यह भी बताया कि कैसे कलाम ने हौसले की उड़ान से भारत माता की सेवा कर भारत रत्न बनो।

कका का आशीर्वाद आपके साथ

               इस दौरान मनहर ने वादा किया कि प्रतिभावान बच्चों की पढ़ाई में कभी भी आर्थिक संकट को आने नहीं दिया जाएगा। क्योंकि प्रतिभावान बच्चों के सिर पर कका भूपेश का आशीर्वाद है। भूपेश सरकार गांव गरीब और प्रतिभावान बच्चों के प्रति समर्पित है। आपके माता पिता के साथ हम भी आपके साथ खड़े हैं।  चाचा नेहरू के बाद अब कका भूपेश  आपके सपनों को रंग भर रहे हैं।  मनहर ने कहा कि इस बात की खुशी है कि उन्हें जोंधरा के उस स्कूल में आने का मौका मिला।  जहां से नवोदय के लिए सर्वाधिक बच्चे चयनित होते हैं।

 भ्रमण किया..नामचीन हाटल मे खाया खाना

                         इसके बाद मनहर ने अपने खर्च पर बच्चों के लिए बस की व्यवस्था कर बिलासपुर स्थित कानन पेन्डारी, फन पार्क, 36 माल का भ्रमण कराया। शहर के नामचीन हाटल में 55 बच्चों के साथ भोजन किया। बच्चों ने इस दौरान मनहर से अपने यात्रा के अनुभवों को साझा किया। बच्चों की खुशी देख मनहर की आंखे भर आयी।

             सभी बच्चों को युवा कांग्रेस नेता जयंत मनहर ने सीएमडी महाविद्यालय स्थित आडिटोरियम में आयोजित कार्यक्रम में सम्मानित किया। जयंत मनहर ने मल्हार स्थित नवोदय विद्यालय में आयोजित बच्चों के कार्यक्रम में शिरकत किया। मनहर को अपने बीच पाकर बच्चों की खुशियां देखते ही बनती थी। मनहर भी  बच्चों निराश नहीं किया। बच्चा बनकर बचपन का आनन्द लिया। उन्होने कहा कि इस दुनिया में दो बाते गांठ बांधकर रखें। पहला पढ़ाई और दूसरा माता पिता और गुरूओं की सेवा। जब हम  दोनों बातों को गांठ बांधकर रखेंगे..तभी हम भारत माता की संतान कहलाने लायक बनेंगे। जयंत ने बच्चों के बीच पुरस्कार भी वितरण किया।

देश के साथ खुद का बढ़ाएं मान

                              कार्यक्रम के बाद डिंडनेश्वरी माता का भी दर्शन किया। मध्यनगरी स्कूल में आयोजित कार्यक्रम में भी भाग लिया। मनहर और प्रदेश कांग्रेस सचिव रवि श्रीवास ने बच्चों के बीच अपने आपको बच्चा जैसा महसूस किया। रवि श्रीवास ने बताया कि सिक्के की तरह जीवन के भी दो पहलु होते हैं। पहला तो यह कि कुछ बनने के लिए बच्चों को तपस्या की भट्ठी में तपना होगा। इस दौरान खुद को देश की सेवा के लिए तैयार करना होगा।  दूसरा यह कि भारत माता की सेवा करते हुए देश के मान सम्मान को अर्जित कर अपना सम्मान बढ़ाना होगा। रवि ने बताया कि .चाचा नेहरू का मानना था। हमें अपने राष्ट्र निर्माण में एक और नेक बनकर रहना होगा। इसके बाद ही राष्ट्र की प्रगति होगी..और हमें अपने राष्ट्रीयता पर अभिमान भी होगा। रवि ने दुहराया कि यदि आप में प्रतिभा है तो गरीबी आपका कुछ नहीं बिगाड़ सकती है। क्योंकि हमारे साथ चचा नेहरू की प्रेरणा के अलावा काका भूपेश का आशीर्वाद  भी  है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *