अनुकम्पा नियुक्ति में बर्खास्त कर्मचारियों पर दर्ज होगा एफआईआर..शिक्षा विभाग अधिकारी ने बताया..जल्द ही करेंगे पांचों के खिलाफ रिपोर्ट

बिलासपुर— झूठा शपथ पत्र दाखिल करने और गलत जानकारी देकर अनुकम्पा नियुक्ति मामलेे में बर्खास्त सभी कर्मचारियों पर एफआईआर दर्ज किया जाएगा। मामले की जानकारी जिला शिक्षा विभाग के सहायक संचालक पी.दासरथी ने दी है। दासरथी ने बताया कि झूठी जानकारी देकर नौकरी हासिल करने वाले पांचों कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया गया है। अब सभी के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया जाएगा। जल्द ही मामले में विभाग से संबधित थाने में रिपोर्ट दर्ज किया जाएगा। 

                  जानकारी देते चलें कि साल 2021 में कोरोना काल के दौरान मुख्यमंत्री के विशेष निर्देश पर अनुकम्पा शर्तों को शिथिल करते हुए नौकरी दिए जाने का एलान किया गया। इसके बाद पूरे प्रदेश में एक साथ अनुकम्पा नियुक्ति की भर्तियां हुई। इसी क्रम में बिलासपुर में भी दो चरणों में तीन दर्जन से अधिक पीड़ित परिवरों के सदस्यों को अनुकम्पा नियुक्ति का आदेश दिया गया।

गलत जानकारी देकर नौकरी पर कब्जा

                अनुकम्पा नियुक्ति आदेश के बाद पूरे प्रदेश में गलत शपथ के आधार पर  नौकरी पाने वालों के खिलाफ शिकायत पर जांच पड़ताल शुरू हुई। दर्जनों लोगों को नौकरी से बाहर किया गया। रायपुर से लेकर बिलासपुर में भी जांच पड़ताल की कार्रवाई हुई। इसी क्रम में बिलासपुर में शिकायत के बाद पांच लोगों को झूठे शपथ पत्र के आधार पर अनुकम्पा में नौकरी हथियाने की विभाग को जानकारी मिली। इस दौरान आरोप भी लगाया गया कि अधिकारियों और बाबुओं की मिली भगत से अनुकम्पा में गलत लोगों को नौकरी पर रखा गया है। 

कलेक्टर ने दिया था जांच का आदेश

                          हड़कम्प के बाद कलेक्टर के आदेश पर बिलासपुर जिला शिक्षा विभाग ने जांच टीम का गठन कर पांच लोगों को फर्जी तरीके से अनुकम्पा नियुक्ति में नौकरी करना पाया गया। जांच पड़ताल के बाद पेश रिपोर्ट के आधार पर एक एक कर गलत तरीके से नौकरी हासिल करने वाले  सभी पांच लोगों को बाहर का रास्ता दिखाया गया।  

पांचो के खिलाफ दर्ज होगा एफआईआर

          जिला शिक्षा विभाग के अधिकारी पी.दासरथी ने बताया कि जल्द ही नौकरी से निकाले गए सभी पांचों के खिलाफ एफआईआर दर्ज के लिए थाने में रिपोर्ट दर्ज कराया जाएगा। उन्होने बताया कि बर्खास्त किए गए पांचों कर्मचारियों का नाम श्वेता सिंह, विकल्प श्रीवास्तव,  मनीष कुर्रे, योगेश कुमार मिश्रा और योगेश्वरी सूर्य वंशी है।

               दासरथी ने कहा कि पांचो ने विभाग को झूठा शपथ दिया है। शासन के निर्देश पर जल्द ही पांचों के खिलाफ थाने में रपट लिखाया जाएगा। 

              बताते चलें कि श्वेता सिंह लाखासार स्थित शासकीय माध्यमिक शाला, विकल्प श्रीवास्तव खोंगसरा स्थित  शासकीय हाईस्कूल, मनीष कुर्रे सिलतरा स्कूल में और मनीष कुर्रे को भाड़ी स्कूल में सहायक ग्रेड तीन के पद पर नियुक्त किया गया था। इसके अलावा योगेश्वरी सूर्यवंशी को कोटा में नियुक्त किया गया था।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *