पढ़ें..कैसे पकड़ाए..लाखों की ठगी करने वाले आनलाइन ठग..किसकी शिकायत पर हुई कार्रवाई..कहां के हैं तीनों आरोपी

बिलासपुर—- पुलिस ने देश विदेश की नामचीन कम्पनियों में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस कप्तान के निर्देश और सायबर सेल के सहयोग के साथ  आलाधिकारियों के मार्गदर्शन में बिलासपुर टीम ने हरियाणा निवासी तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। तीनों आरोपियों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया है। 
 
प्रार्थी से साढ़े पांच लाख रूपयों से अधिक की ठगी
 
        एडिश्नल एसपी उमेश कश्यप ने बताया कि प्रार्थी आशिष सिंह थाना सकरी में रिपोर्ट दर्ज कराया कि आनलाईन अलग अलग कंपनीयों में जाॅब के लिए आवेदन दिया था। कुछ दिनों बाद  ऋषभ गुप्ता एच.आर मैनेजर फ्यूचर कंपनी और महेश माथुर फाईनेसियल हेड फ्यूचर कंपनी ने काॅल कर बताया कि दुनिया की मशहूर कम्पनी के लिए उसका इन्टरव्यू है। कंपनी का नाम आरसेल मित्तल है।ष दुबई में नौकरी के लिए 80 लाख रूपए सालाना पैकेज दिया जाएगा।
 
            दोनों अधिकारियों की मांग पर उसने रजिस्ट्रेशन, डिग्री, एक्सपेरियंस सर्टिफिकेट समेत अन्य जरूरी स्तावेज वेरीफिकेशन के साथ आन लाइन भेजा। इसके बाद अधिकारियों ने एप्टिट्यूट टेस्ट इंटरव्यू प्रिपेशन ट्रेनिंग, फाईनल प्लेसमेंट ऑफर लेटर और ज्वाईनिंग के नाम पर 5,67,104 रूपए भी लिया। फिलहाल ना तो उसे नौकरी ही मिली। और ना ही अधिकारी फोन उठा रहे हैं।
 
               जानकारी मिलने के बाद मा्मले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस कप्तान ने विेदेश में नौकरी के लुभावने ऑफर देकर बेरोजगारों को निशाने वाले गिरोह का पर्दाफाश करने टीम का गठन किया।  एक टीम को निरीक्षक कलीम खान की अगुवाई में  दिल्ली हरियाणा के लिए रवाना किया गया। तीन दिनों तक पता साजी के बाद तीनों आरोपियों को धर दबोचा गया।
 
 कैसे करते हैं आनलाइन शिकार
 
       एडिश्नल एसपी उमेश कश्यप ने बताया कि पकड़े गए तीनो आरोपी हरियाणा के रहने वाले हैं। पकड़े गए आरोपी दिल्ली और हरियाणा में काॅल सेंटर चलाते हैं। नामी ऑनलाइन जाॅब पोर्टल से डाटा चुराकर बेरोजगार युवकों को लुभावने आफर के साथ अपने जाल फंसाते थे। विदेशो में नौकरी लगाने के नाम पर अब तक सैकड़ों लोगों का शिकार कर चुके हैं।  युवको,युवतियों कों विभिन्न पदों के लिए जाॅब ईंटरव्यू, रजिस्ट्रेशन, सर्टिफिकेट वेरिफिकेशन, मास्टर एट्टीट्यूड टेस्ट, हाॅयर मेनेजमेंट ट्रेनिंग प्रोग्राम, इंटरव्यू प्रिपेशन ट्रेनिंग, फाईनल प्लेसमेंट के फीस के नाम पर पैसे की मांग करते हैं। स्काईप/ व्हाट्सएप में वीड़ियों काॅलिंग के माध्यम् से फर्जी इंटरव्यू लेते थे। पकड़े गए तीनों आरोपियों के पास से लैपटाॅप, मोबाईल समेत 3 लाख 70 हजार नगद बरामद किया गया है।
 
क्या कहते हैं पुलिस कप्तान
 
               मामले में पुलिस कप्तान प्रशांत अग्रवाल ने बताया कि प्रत्येक युवक युवतियों को इस प्रकार के प्रलोभन  से बचने की जरूरत है।  वर्तमान समय में लोग घर बैठे ही नौकरी के लिए आवेदन कर रहे हैं। ,ऑनलाइन आवेदन ,मोबाईल नंबर ,ईमेल आदि पर प्रतिक्रिया जाहिर करधोखाधड़ी का शिकार हो रहे हैं। ऑनलाइन जाॅब फ्राड़ से बचने के लिए अनचाहे ईमेल और मैसेज का जवाब देने से बचना चाहिए। वेबसाइट पर नौकरी संबंधित विज्ञापनों से बिना पुख्ता कारणों के प्रभावित होने से सबको बचना होगा।
 
पकड़े गए आरोपियों के नाम और पता ठिकाना
 
       उमेश कश्यप ने बताया कि पकड़े गए तीनों आरोपी हरियाणा प्रदेश में गुणगांव के रहने वाले है। तीनों आरोपियों के खिलाफ पूछताछ के बाद आईपीसी की धारा 420,34 के तहत अपराध दर्ज किया गया है। आरोपियों के नाम साहिल अली पिता अली सुल्तान उम्र 23 साल रफिउल इस्लाम पिता ताफीजुल सरकार उम्र 26 साल और आलोक पाल पिता तेज सिंह उम्र 25 साल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *