आईजी ने कहा- शालीनता के साथ करें काम…

IMG20170107130724बिलासपुर— बिलासागु़डी में आज पत्रकारों और पुलिस प्रशासन के बीच नव वर्ष मिलन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में संभाग के सभी जिलों के पुलिस कप्तान और थाना प्रभारी मौजूद थे। इस मौके पर बिलासपुर संभाग रेंज के पुलिस महानिरीक्षक ने साल 2016-17 का पुलिस रिपोर्ट कार्ड पेश किया।

                       आई विवेकानन्द सिन्हा ने बताया कि बीता सत्र कई मामलों में पुलिस महकमें के लिए उपलब्धियों भरा रहा । लेकिन दर्ज प्रकरणों की संख्या साल 2015 की तुलना में अधिक थी। इसकी मुख्य वजह लोगों की जागरूकता और पुलिस की जनसामान्य में अच्छी छवि को जाता है। साल 2016 पुलिस महकमें ने जनता और पुलिस प्रशासन के बीच बेहतर समन्वय बनाया। इस साल पिछले साल की तुलना में बेहतर परिणाम होंगे। आई जी सभी पत्रकारों को नव वर्ष की बधाई के साथ ही सवालों का जवाब भी दिया।

                         सवाल के जवाब में आई विवेकानन्द ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देश के अनुसार 48 घंटे के भीतर अपराध दर्ज किया जा रहा है। पुलिस का प्रयास भी हमेशा से रहा है कि लोगों तक न्याय जल्द से जल्द पहुंचे। पुलिस कार्रवाई का बेहतर परिणाम भी लोगों के सामने आए।

                                           पुलिस अभिरक्षा में मौत और कर्मचारियों के व्यवहार के सवाल पर आई जी ने कहा कि यह सच है कि कुछ लोगों की मौत पुलिस अभिरक्षा के दौरान हुई है। दोषी पुलिस कर्मी को सजा भी मिली है। कारणों का पता भी लगाया गया। आगे इस प्रकार की स्थिति ना आए इस बात को विशेष निर्देश दिया गया है। मुलमुला समेत दो अन्य एक घटनाओं पर विवेकानन्द् सिन्हा ने दुख जाहिर करते हुए कहा कि ऐसा नहीं होना चाहिए।

                आईजी सिन्हा ने जवाब देते हुए थाना प्रभारियों और पुलिस कप्तान समेत अन्य उपस्थित जिम्मेदार अधिकारियों को निर्देश दिया कि व्यवहार में शालीनता के साथ काम किया जाए। पुलिस अपने काम तो करे लेकिन व्यवहार में शांति के साथ शालीनता भी बनाए रखे। सिन्हा ने बताया कि सिंगल नम्बर योजना के तहत शिकायतों को दर्ज कर मौके पर पुलिस पहुंचेगी। उन्होने बताया कि कोई भी थाने में शिकायत लेकर पहुंचता है तो उसके साथ सकारात्मक व्यवहार किया जाए।

                                  क्या कारण है कि अच्छी खासी तैयारियों और जांच पड़ताल के बाद कोर्ट में पुलिस की जांच पड़ताल को कोर्ट नकार देता है। जिसके चलते अपराधी बचकर निकल जाते हैं। आई जी सिन्हा ने बताया कि यह सच है…हम विशेषज्ञों के सहयोग से पुलिस के इन्वेस्टिगेशन प्रक्रिया को और पैना बना रहे हैं। खामियों को दूरूस्त करने की कोशिश लगातार हो रही है। जांच पड़ताल के दौरान किसी प्रकार की कोताही ना हो साथ ही अपराधी को बचने की कोई संभावना भी ना हो। लगातार कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। अधिकारियों को जांच पड़ताल के हाइटेक तकनिकियों की जानकारी दी जा रही है।

        आईजी ने बताया कि सायबर अपराध का ग्राफ तेजी से बढ़ा है। बिलासपुर संभाग पुलिस को तेजी से हायटेक किया जा रहा है। विवेकानन्द सिन्हा ने कहा कि हम लोकतंत्र के हिस्सा हैं। पुलिस की जिम्मेदारी है कि लोगों को ज्यादा से ज्यादा जो़ड़ें। इस बात को ध्यान में रखकर संभाग के पांच जिलों में अलग-अलग नाम से चलित पुलिस स्टेशन बनाया गया है। उन्होंने कहा कि सम्मान की बात है कि मुंगेली को 9001-2015 का पुलिस कार्यप्रणाली के लिए मुख्यमंत्री के हाथों सम्मान मिला है।

           पुलिस और पत्रकार मिलन कार्यक्रम में आई जी विवेकानन्द सिन्हा के अलावा जांजगीर पुलिस कप्तान अजय सिंह यादव,मुंगेली पुलिस कप्तान नीथू कमल सिंह,कोरवा पुलिस कप्तान,रायगढ़ पुलिस कप्तान बद्रीनारायण मीणा और बिलासपुर एसपी मयंक श्रीवास्तव विशेष रूप से उपस्थित थे।

इस दौरान सभी पत्रकारों का पुष्प भेंटकर सम्मान किया गया। सभी ने एक दूसरे को नववर्ष की शुभकामनाएं दी। कार्यक्रम का संचालन नगर पुलिस अधीक्षक लखन पटले ने किया।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...