विधवा महिला ने कहा…एसपी और कलेक्टर भी नहीं सुन रहे…न्याय मांगने कहां जाऊं..दामाद और मामा ने किया बेटी का अपहरण

बिलासपुर—कोनी थाना क्षेत्र निवासी विधवा महिला ने अपने दामाद समधी और दामाद के मामा पर बेटी को अपरण कर किसी अज्ञात स्थान पर बंंधक बनाकर रखने का आरोप लगाया है। महिला ने हमेशा की तरह पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचकर न्याय की गुहार लगाई है। महिला ने बताया कि अब तक उसने एक बार कलेक्टर तीन बार एसपी और एक बार कोनी थाने में फरियाद की है। लेकिन अाज तक न्याय नहीं मिला है। अधिकारी भी आवेदन लेकर पावती थमा देते हैं। लेकिन बेटी को खोजने का कोई प्रयास नहींं कर रहे हैं।

    पिछले 25 दिनों से थाना, पुलिस अधीक्षक और कलेक्टर कार्यालय का चक्कर काट रही विधवा ममिला ने उम्मीद की किरण को पक़़ड़ कर रखी है। महिला ने बताया कि आज भी पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचकर दामाद,समधी और दामाद के मामला पर कार्रवाई की मांग ही है। साहब लोगों को बताया है कि तीनों ने मिलकर बेटी को अगवा कर कहीं बंधक बनाकर रखा है। यदि तीनों ने मिलकर बेटी की हत्या कर दी हो तो आश्चर्य की कोई बात नहीं होगी।

विधवा महिला जयमति साहू ने बताया कि बेटी जूही और दामाद प्रकाश साहू की शादी एक दूसरे की पसंद से साल 2011 में हुआ। दोनों परिवार ने मिलकर महामाया मंदिर में शादी की रश्म को पूरा किया। दोनों के बीच एक बच्ची भी आई। उसकी उम्र इस समय पांच साल है। पिछले कुछ एक साल से बेटी के ससुराल वालों ने मारना पीटना शुरू कर दिया। इस बीच बेटी को कई बार घर से निकाला गया। सामाजिक और व्यक्तिगत स्तर पर ससुराल वालों को समझाया गया। ऐसा खेल कई बार हुआ। बेटी को मारपीट के बाद घर से ससुराल वाले निकाल देते। इसके बाद समझा बुझाकर घर में बेटी को वापस भेजा जाता।

जयमति ने बतायाक कि 8 दिसम्बर 2012 और 10 फरवरी 2019 को मेरे दामाद और समधी ने बेटी के साथ मारपीट की। इसके बाद मारपीट की शिकायत को लेकर थाने में व्यक्तिगत रूप से शिकायत भी की। इसके बाद दामाद बेटी को समझा बुझाकर घर ले गया। घर पहुंचने के बाद दामाद प्रकाश साहू. ने अपने मामा जेठू साहू और पिता विश्राम साहू के साथ मिलकर बेटी जूही के साथ मारपीट की। इसके बाद तीनों ने मिलकर बेटी को तुर्काडीह पुल के पास ले गए। तीनों ने बेटी को आटो में बैठकर कहां ले गए आज तक किसी को पता नहीं है।

जयमति ने बताया कि तीनों ने बेटी का अपहरण कर किसी अज्ञात स्थान पर बंधक बनाकर रखा है। उसे अंदेशा है कि तीनों ने बेटी की हत्या कर दी है। काफी खोजबीन के बाद भी बेटी का पता नहीं चल रहा है। समधी दामाद और उसका मामा कुछ भी नहीं बता रहे हैं। पुलिस भी किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं कर रही है। शिकायत के बाद भी पुलिस की निष्क्रियता से वह परेशान है। यदि बेटी के साथ कुछ अनहोनी होती है तो वह आत्महत्या करने को मजबूर होगी। इसकी जिम्मेदारी पुलिस प्रशासन की होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *