मेरा बिलासपुर

प्रदेश में प्रतिभाओं की कमी नहीं…जरूरत सही मार्गदर्शन की..शिक्षाविद राजीव ने गिनाए..सफलता के 3 मंत्र

  IMG-20171208-WA0055(1)बिलासपुर—बलौदा बाजार भाटापारा कलेक्टर राजेश राणा की पहल पर जिले के विभिन्न स्कूलों में नई दिशाएं योजना के तहत कैरियर गाइडेंस कार्यशाला का आयोजन छ्ह विकासखंड के समेत 244 हाई स्कूल और सेकेंडरी शालाओ के बच्चो के लिए किया जा रहा है। जिले में 120 अध्ययन केन्द्र बनाये गए है।

                            जिला शिक्षा अधिकारी जी आर चन्द्राकर के मार्गदर्शन में बलौदा बाजार,भाटापारा, पलारी,कसडोल,सिमगा,बिलाईगढ़ विकासखण्डों के अध्ययन केंद्रों में इंटरमीडिएट के छात्रों के बीच नई दिशाए कैरियर गाइडेंस कार्यक्रम चलाया जा रहा है। विशेषज्ञों की टीम स्कूल शिक्षा विभाग अधिकारी और शालाओ के प्राचार्य के साथ बच्चों को बेहतर कैरियर की जानकारी दे रहे हैं। शालाओ में कैरियर गाइडेंस मिनी लाइब्रेरी की सुविधा भी मुहैया कराई गई है।

जिला कलेक्टर राजेश राणा,जिला शिक्षा अधिकारी जीएस चन्द्राकर,  समेत शिक्षा विभाग के जागरूक अधिकारी बच्चों के बीच भविष्य की संभावनाओं को ना केवल तलाश रहे हैं बल्कि बेहतर कैरियर के लिए बेहतर टिप्स भी दे रहे हैं। जिला शिक्षा अधिकारी चन्द्राकर और  खण्ड शिक्षा अधिकारी अमर सिंह धृतलहरे ने बताया कि नई दिशाए कैरियर गाइडेंस कार्यक्रम की लोकप्रियता बच्चों बढ़ती जा रही है। कार्यशाला में बच्चों के उत्साह और उमंग को देखते ही बनता है। कई उत्साहित बच्चों ने तो कार्यशाला से निकलने के बाद कलेक्टर,जज,इंजीनियर और डाक्टर बनने का संकल्प भी ले लिया है। नई दिशाएं कार्यक्रम के पहले चरण में पिछले सप्ताह सभी अध्ययन केन्द्रों कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस दौरान बच्चो को कैरियर विकल्प की जानकारी दी गयी।

                       शासकीय बहुउद्देश्यीय उच्चत्तर माध्यामिक शाला भाटापारा में कार्यशाला का आयोजन किया गया। शिक्षाविद् राजीव लोचन तिवारी ने बताया कि छत्तीसगढ़ में प्रतिभाओं की कभी कमी नहीं रही । कमी है तो केवल सही मार्गदर्शन की…सही मार्गदर्शन नहीं मिलने से बच्चे भटक जाते हैं। बच्चे क्या बनना चाहते हैं…बच्चों का रूझान किधर है…इस बात की जानकारी अभिभावकों और शिक्षकों होना बहुत जरूरी है। बच्चों की रूचि और प्रतिभा को समय रहते परख लिया जाए तो सफलता को कोई रोक नहीं सकता है।

एसडीएम और सीईओ के आदेश पर प्रबंधक भारी

            बलौदाबाजार भाटापारा कलेक्टर राजेश.राणा के प्रयासों की तारीफ करते हुए राजीव लोचन ने कहा कि तमाम व्यस्तताओं के बीच बच्चों के भविष्य को लेकर  कलेक्टर राणा बहुत ज्यादा संवेदनशील हैं। कलेक्टर के प्रयास से कैरियर निर्माण कार्यशाला का लाभ समय के साथ बच्चों को जरूर मिलेगा। शुक्रवार को राजीव लोचन तिवारी शासकीय बहुउद्देशीय उच्चत्तर माध्यमिक स्कूल और कन्या शाला के बच्चों से कार्यशाला के दौरान रूबरू हुए। उन्होने बताया कि अनुशासन, मूल्य और संस्कार के दम पर बडे से बड़े लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है। जो भी छात्र इन तीन मंत्रों को आत्मसात करेगा। उसके लिए कोई लक्ष्य मुश्किल नहीं होगा। डॉक्टर, कलेक्टर, इंजीनियर का पद उसे जरूर हासिल होगा। पुलिस अधिकारी ,वैज्ञानिक और जज  भी बनेंगे।  लेकिन इसके पहले सभी छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं से गुजरना होगा। प्रतियोगी परीक्षाओं को पास करने के लिए अच्छी रणनीति का होना बहुत जरूरी है। कार्यशाला में प्रभारी सहायक विकास खण्ड शिक्षा अधिकारी भास्कर देवांगन,मुकेश अग्रवाल समेत अन्य अधिकारियों ने भी बच्चों को प्रतियोगी परीक्षाओं की जानकारी दी।

                                         नई दिशाएं अभियान में जिला शिक्षा अधिकारी भाटापारा जी.आर.चन्द्राकर का बच्चों और उनके IMG-20171208-WA0052(1)भविष्य के प्रति गहरा लगाव देखने को मिला। चन्द्राकर ने बताया कि आज के बच्चे कल भारत के भविष्य होंगे। बच्चों के बहाने भारत के भविष्य को उज्जवल बनाने की हमारी नैतिक जिम्मेदारी है। खण्ड सहायक शिक्षा अधिकारी मुकेश अग्रवाल ने बताया कि जिला कलेक्टर के मार्गदर्शन में विद्वानों की टीम बच्चों के बीच पहुंच रही है। बच्चों में उत्साह और उमंग जगाया जा रहा है। शिक्षाविद् राजीव लोचन तिवारी बच्चों के बीच पहुंचकर कैरियर के प्रति जागरूक कर रहे हैं। कैरियर विशेषज्ञों से जिले के विभिन्न स्कूलों में हजारों बच्चों को फायदा मिला है।

तानाखार से ही चुनाव लड़ेंगे रामदयाल उइके........ दादा हीरा सिंह मरकाम को मिल सकता है कांग्रेस का समर्थन ....?

      शिक्षाविद राजीव लोचन समेत जिम्मेदार शिक्षा विभाग के अधिकारी शुक्रवार को मोपका और देवरी के बच्चों से भी मिले। नई दिशाएँ कैरियर गाइडेन्स कार्यशाला के उद्देश्यों की जानकारी दी। कार्यशाला में 500 से अधिक छात्र छात्राओं ने हिस्सा लिया। आसपास स्कूल के बच्चों ने भी दिशा निर्देशों का फायदा उठाया। मुकेश अग्रवाल ने बताया कि बच्चों को दसवीं और बारहवीं के बाद विषय चयन को लेकर सतर्क रहने की जरूरत है। उन्होेने बच्चों को संकाय वार कैरियर विकल्पों की जानकारी दी। शनिवार को कैरियर गाइडेंस टीम निपनिया, खपरी, कोदवा,खोखली,बोडतरा स्कूली बच्चों के बीच पहुंची। यहां भी 450 से अधिक बच्चों ने कैरियर गाइडेंस का लाभ उठाया।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS