30 साल बाद हटी गुमटियां…सुरक्षा के बीच चला निगम का डोजर ..अनियंत्रित भीड़ को पुलिस ने किया तितर बितर

IMG-20171212-WA0008  बिलासपुर— सिटी कोतवाली के सामने गुमटी वालों को हटाने में पुलिस और निगम प्रशासन को प्रशासन को पसीना छूट गया। लेकिन भारी सुरक्षा बंदोबस्त और गाली गलौच के बीच निगम प्रशसन का डोजर जमकर चला। किसी की आवाज काम नहीं आयी। समय समय पर पास में ही एक कार्यक्रम में महापौर किशोर राय अधिकारियों को निर्देश देते रहे कि अतिक्रमण हटाने के बाद ही निगम अधिकारी कार्रवाई को रोके। लेकिन महापौर मौके पर नजर नहीं आए। भीड़ ने किशोर राय और स्थानीय मंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। तोड़फोड़ प्रभारी ने बताया कि कोर्ट के आदेश का पालन किया जा रहा है। यदि किसी ने रोकने का प्रयास किया तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

                                     आज मानसरोवर चौक स्थित सिटी कोतवाली के सामने से निगम ने गुमटी वालों को हटा दिया। निगम प्रशासन जेसीबी से जमकर तोड़फोड़ की। जेसीबी और पुलिस के सामने भीड़ की एक नहीं चली। कार्रवाई के दौरान देखते ही देखते लोगों का मजमा लग गया। यातायात व्यवस्था बुरी तरह से प्रभावित हुआ। लोगों ने कई बार निगम अधिकारियों पर हमला करने का प्रयास किया। लेकिन पुलिस के सामने किसी की कुछ नहीं चली।

          निगम कार्रवाई के बीच लोग लगातार स्थानीय मंत्री और महापौर के खिलाफ नारेबाजी करते रहे। लेकिन इस दौरान महापौर भारतीय जनता पार्टी के तीन दिवसीय कार्यशाला में शिरकत करते नजर आए। समय समय पर अधिकारियों को निर्देश भी देते रहे।

तीस साल बाद हटी गुमटियां IMG-20171212-WA0005

                     प्रभावितों ने बताया कि करीब 25 गुमटियां हैैं। तीस साल पहले निगम के ही आदेश पर यहां लगाई गयी थीं। एक महीने पहले निगम प्रशासन ने गुमटियों को हटाने का आदेश दिया। गुमटियों को हटाकर चौपाटी क्षेत्र में शिफ्ट किया जा रहा है। इस बात की भी गारंटी नहीं है कि शिफ्ट करने के बाद चौपाटी से हटाया नहीं जाएगा। कोर्ट में मामला है बावजूद इसके गुमटियों को हटाया जा रहा है। हम लोग यहां लम्बे समय से बाजार कर रहे हैं। चौपाटी क्षेत्र में बाजार भी नहीं है। जब बाजार नहीं होगा तो बाल बच्चों का पेट कैसे पालेंगे।

हाईकोर्ट के आदेश पर कार्रवाई

                निगम तोड़फोड़ दस्ता प्रभारी प्रमील शर्मा ने बताया कि हाईकोर्ट के निर्देश और कमिश्नर के आदेश के बाद कार्रवाई की जा रही है। गुमटी वालों ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर गुमटी नहीं हटाए जाने की मांग की थी। लेकिन उच्च न्यायालय ने निगम प्रशासन को सभी गुमटीवालों को स्थान दिए जाने के बाद हटाने दिया था। सभी लोगों को चौपाटी में स्थान दे दिया गया है। हाईकोर्ट के निर्देश पर 14 दिसम्बर तक गुमटी को हटाना था। आदेश का पालन करते हुए गुमटियों को हटाकर निर्धारित स्थान पर शिफ्ट किया जा रहा है। अतिरिक्त निर्माण को तोड़ने की कार्रवाई हो रही है।

घंटो तक यातायात जाम

               IMG-20171212-WA0005  तोड़फोड़ और गुमटी हटाने की कार्रवाई के दौरान भयंकर भीड़ थी। भी़ड़ में ज्यातर तमाशबीन और कुछ प्रभावित व्यापारी शामिल थे। जहां गुमटी वालों ने कार्रवाई का विरोध किया तो क्षेत्र के जमे जमाए व्यापारियों ने अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई का समर्थन किया। नाम नहीं लिखने की शर्त पर एक व्यापारी ने बताया कि गुमटी वालों ने धंधा को चौपट कर दिया था। अब व्यापार ठीक होगा। इन्हें शासन से स्थान दिया है। इसलिए उन्हें जाने ही होगा। हाईकोर्ट के आदेश का पालन करवाना निगम प्रशासन का काम है। निगम प्रशासन वहीं कर भी रहा है। तोड़फोड़ कार्रवाई के बीच घंटे भर से अधिक समय तक जाम की स्थिति बनी रही।

व्यापारियों ने दिया कोतवाली में धरना

             अतिक्रमण दस्ते की कार्रवाई के विरोध में व्यापारियों ने सिटी कोतवाली के सामने धरना प्रदर्शन किया। कई गुमटी वाले तो रोते भी जर आए। पुलिस से ही गुमटी बचाने की गुहार लगाते रहे। लेकिन व्यापारियों की फरियाद बेअसर साबित हुई। इस दौरान पुलिस ने ज्यादा विरोध करने वालों को पकड़कर बैठा भी लिया। कुछ को दूसरे थाना के लिए भेज दिया। इस दौरान गुमटी वालों का परिवार भी विरोध प्रदर्शन करते नजर आया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *