मेरा बिलासपुर

मेडिकल दुकान में बड़ा फर्जीवाड़ा…आपरेटर ने किया सांठ गांठ..कूट रचना कर मालिक को लगाया 8 लाख रूपयों का चपत

बिलासपुर—आठ लाख की धोखाधड़ी और फर्जीवाड़ा मामले में पुलिस ने अलग अलग ठिकानों से गिरफ्तार किया है। मामले तेलीपारा स्थित मेडिकल दुकान में बिल फर्जीवाड़ा करने को लेकर है। शिकायत के बाद कम्प्यूटर आपरेटर के निशानदेही पर सभी आरोपी दवाई दुकान संचलकों को हिरासत में लिया। अलग अलग पूछताछ की कार्रवाई में सभी आरोपियों ने जुर्म कबूल किया। सभी आरोपियों को फर्जावाड़ा के जुर्म में जेल दाखिल कराया गया है।

Join Our WhatsApp Group Join Now

आठ लाख रूपयों का फर्जीवाड़ा

तारबाहर थाना क्षेत्र निवासी आशीष मित्तल ने 9 अप्रैल 2024 को रिपोर्ट दर्ज कराया। आशीष ने बताया कि तेलीपारा में उसका प्रदीप हेल्थ केयर प्राइवेट लिमिटेड के नाम से दवाईयो के थोक क्रय-विक्रय कररते हैं। दुकान में कार्यरत कंप्युटर आपरेटर योगेश कारके कोडापुरी थाना सकरी का रहने वाला है। दवाईओ की सप्लाई का आर्डर  बिल तैयार करता है। इस दौरान जानकारी मिली कि योगेश कारके  ने दवा दुकानदारो से सांठगाठ कर बिलो की राशि में कुटरचना कर वास्तविक बिल की राशि और  दवाओ की संख्या को घटाकर बिल जारी किया है। छानबीन के दौरान जानकारी मिली कि आरोपी ने फर्जीवाड़ा कर करीब 8,00,000 रूप्ये का धोखाधडी किया है।

अलग अलग धाराओं में अपराध दर्ज

आशीष मित्तल की रिपोर्ट को गंभीरता से लिया गया। मामले में आईपीसी की धारा 406,420,467,468,471 के तहत अपराध दर्ज किया गया। अतिरिक्त पुलिस कप्तान उमेश कश्यप ने बताया कि पुलिस कप्तान रजनेश सिंह के निर्देश पर तत्काल टीम का गठन किया गया। मामले में आशीष मित्तल से विस्तृत जानकारी ली गई।

अलग अलग ठिकानों से आरोपी गिरफ्तार

जांच पड़ताल के दौरान आरोपी योगेश कारके को तत्काल हिरासत में लिया गया। पूछताछ के दौरान पहले तो आरोपी ने गुमराह किया। कड़ाई करने पर योगेश ने अपराध कबूल किया। आरोपी ने बताया कि ललित कुमार साहू निवासी शिगवांधा मुंगेली,गुलशन तोलानी  निवासी पुराना थाना के पास तखतपुर, ओमप्रकाश निवासी खाम्ही थाना नवागढ जिला बेमेतरा, और दुर्गेश चन्द्राकर निवासी केशरमर्रा पंडरिया थाना कुण्डा के साथ मिलकर फर्जीवाड़ा को अंजाम दिया है।

आरोपियों ने बताया मास्टर माइंड का नाम

आरोपी की निशानदेही पर आरोपियों को कवर्धा,तखतपुर, बेमेतरा, मुंगेली, से हिरासत में लिया गया। पूछताछ के दौरान आरोपियो ने कबूल किया कि सांठ-गांठ कर फर्जी बिल तैयार कर प्रदीप हेल्थ केयर के संचालक को 1 साल के भीतर लगभग 8,00,000 रूपये का चुना लगाया है। आरोपियो के कब्जे से फर्जी बिल और 7 नग मोबाईल बरामद किया गया है। सभी आरोपियो को विधिवत गिरफ्तार कर न्यायिक रिमाण्ड पर भेजा गया है।

                   

Back to top button
close