देय तिथि से महँगाई भत्ता एवं सातवें वेतन पर गृहभाड़ा भत्ता आदेश जारी करे राज्य सरकार- फेडरेशन , पढ़िए कर्मचारियों को हर महीने हो रहा कितना नुकसान

रायपुर । छत्तीसगढ़ प्रदेश शिक्षक फेडरेशन के प्रांताध्यक्ष राजेश चटर्जी,जशपुर जिला अध्यक्ष विनोद गुप्ता एवं महामंत्री संजीव शर्मा का कहना है कि केंद्रीय कर्मचारियों को वर्तमान में 24 %,16 % एवं 8% गृहभाडा भत्ता (एच.आर.ए) देय है। महँगाई भत्ता(डी. ए.) दर 25 % से 50 % तक रहने के स्थिति में,सातवे वेतनमान में गृहभाडा भत्ता मूलवेतन का 27% ,18 % एवं 9% क्षेत्र के जनसँख्या वर्गीकरण अनुसार पात्रता होगा। सातवा वेतनमान 1/1/2016 से प्रभावशील है। लेकिन राज्य शासन के कर्मचारियों को आज पर्यन्त छटवे वेतनमान के मूलवेतन पर पुराना दर 10 % एवं 7% अनुसार मिल रहा है, जोकि न्यायसंगत नहीं है।

उन्होंने आगे बताया कि 1 जुलाई 2019 से 17% तथा 1 जुलाई 21 से एकमुश्त 11 % वृद्धि से कुल 28 % महँगाई भत्ता के स्वीकृति का आदेश केंद्र शासन का है। लेकिन राज्य के कर्मचारी-अधिकारियों को वर्तमान में 12 % महँगाई भत्ता मिल रहा है। मुख्यमंत्री के घोषणा अनुसार अब 1 जुलाई 2021 से 17 %  डी.ए. मिलेगा। उन्होंने बताया की डी.ए. की गणना अखिल भारतीय उपभोक्ता मूल्य सूचकांक सँख्या (AICPIN) के आधार पर निर्धारित की ज़ाती है। जून 2021 के स्थिति में यह सँख्या 121.7 है। अतः 1 जुलाई 2021 के स्थिति में महँगाई भत्ता दर 31 % संभावित है। फिलहाल जिसका घोषणा केंद्र शासन ने नहीं किया है।     उन्होंने बताया कि राज्य के विकास के सारथी कर्मचारियों को बड़ा आर्थिक क्षति एच.आर.ए. तथा डी.ए. की स्वीकृति देय तिथि से  निर्धारित दर नहीं होने के कारण हो रहा है। 3 सितंबर 21 को कलम बंद- काम बंद हड़ताल के बाद मुख्यमंत्री से हुए वार्ता में देय तिथि से डी.ए. सहित 1 जुलाई 19 से 30 जून 2021 तक का एरियर्स जी.पी.एफ खाते में जमा करने तथा सातवें वेतन पर एच.आर.ए देने सहित अन्य लंबित मुद्दों पर सचिव स्तरीय समिति के गठन का प्रस्ताव दिया गया है। जिसपर सरकार को निर्णय लेना है। 

 उन्होंने बताया कि 1जनवरी 2016 के स्थिति में 10% एच.आर.ए  ग्रेड-पे 1300 कर्मचारी का यदि छटवें मूलवेतन ₹ 10200 था,उसे ₹ 1020 मिला था,जोकि सातवे वेतन 26600 रुपए पर 2660 रुपए प्रतिमाह मिलना था। अथार्त 1 सितंबर 21 के स्थिति में 5 वर्ष 9 माह अथार्त 69 माह में 70380 रुपए मिला है जबकि 183540 रुपए मिलना था,नियुनतम 113160 रुपए आर्थिक क्षति हुई है। वहीं प्रारंभिक वेतन पर जुलाई 19 से जून 21 तक 5 % पर 18720 रुपए तथा 1 जुलाई 21 से 31 अगस्त 21 तक 2 माह में 11% डी.ए. में 5312 रुपए आर्थिक क्षति हुई है। ग्रेड पे 1400 रुपए उपरोक्त अनुक्रम में मूलवेतन 8910 रुपए पर मिला है । 61479 रुपए , मिलना था 158010 रुपए का अंतर 96531 रुपए ,डी. ए. 19320 रुपए एवं 5472 रुपए ; ग्रेड पे 1800 रुपए में मिला है । 77142 रुपए मिलना था 198720 अंतर 121578 रुपए , 21600 रुपए एवं 6112 रुपए ; ग्रेड पे 1900 रुपए में मिला है 62652 रुपए, मिलना था 162840 रुपए अंतर 100168 रुपए , 23400 रुपए 6624 रुपए ;  ग्रेड पे 2400 में मिला है 89562 रुपए मिलना था 235290 रुपए अंतर 145728 रुपए, डी.ए. 30360 रुपए एवं 8608 रुपए ग्रेड पे 2800 में मिला है 103086 रुपए मिलना था 264891 रुपए अंतर ,161805 रुपए , डी. ए. 34440 रुपए एवं 13420 रुपए ; ग्रेड पे 4200 रुपए  में मिला है 142830 रुपए मिलना था 369840 रुपएअंतर 227010 रुपए , डी.ए. 42480 रुपए एवं 12032 रुपए ग्रेड पे 4300 में  मिला है 162081रुपए मिलना था 420900 रुपए अंतर 258819 रुपए , डी. ए. 45720 रुपए  एवं 12928 रुपए ; ग्रेड पे 5400 में मिला है 210726 रुपए, मिलना था 552000 रुपए अंतर 341274 रुपए, डी. ए.67230 रुपए एवं 19040 रुपए का भुगतान नहीं हुआ है। उन्होंने कहा है कि सरकार को कर्मचारियों का हक देना चाहिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *